ब्राजील की चीनी कंपनी मोरेनो भारी संकट में

203

दुनिया भर में चीनी की कीमतों में गिरावट के कारण चीनी मिलें जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रही है। चीनी अधिशेष, कम कीमत और कोई लाभ नहीं न होने के कारण, कई चीनी मिलों को अपना परिचालन बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा। इसके असर ने ब्राजील की चीनी और एथेनॉल बनाने वाली कंपनी ग्रुपो मोरेनो को भी अपने चपेट में लिया है। मोरेनो ने दिवालियापन संरक्षण के लिए अर्ज दायर किया है। मोरेनो ब्राजील के गन्ना बेल्ट के केंद्र में तीन संयंत्र संचालित करती है।

कंपनी का यह कदम हाल के वर्षों में चीनी की कीमतों में गिरावट और 2011 से 2015 के बीच घरेलू एथेनॉल बाजार में खराब मार्जिन के बाद आया है, जब ब्राजील सरकार ने मुद्रास्फीति से लड़ने के लिए गैसोलीन की कीमतें कम रखीं, जिससे एथेनॉल उत्पादन में कमजोर लाभ हुआ।

मोरेनो का कर्ज लगभग 453.44 मिलियन डॉलर अनुमानित है। कंपनी ऋण पुनर्गठन के लिए बैंकों और निवेशकों से परामर्श कर रही है।

पिछले महीने, फ्रांस की चीनी कंपनी टेरोस कमोडिटीज ने 2020 तक केन्या और दक्षिण अफ्रीका में परिचालन और चीनी व्यापार बंद करने की घोषणा की थी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here