उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में चीनी उद्योग का बड़ा योगदान

1174

2.67 करोड़ लोगों के आजीविका का मुख्य स्रोत 

लखनऊ : चीनी मंडी 

देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश गन्ना और चीनी उत्पादन में भी पहले स्थान पर है।चीनी उद्योग ही उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था का सबसे बड़ा प्रमुख स्तम्भ है, देश में उगाए जाए वाले  गन्ने के कुल क्षेत्र में यूपीका हिस्सा लगभग 48% है और यह कुल गन्ना उत्पादन का 50% योगदान देता है।राज्य के 44 जिलों में चीनी उद्योग ही सबसे बड़ा प्रमुख उद्योग है और इन ४४  जिलों में ग्रामीण अर्थव्यवस्था में गन्ना और गन्ना उद्योगएक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।राज्य में तकरीबन 53.37 लाख गन्ना किसान हैं जो 182 गन्ना और चीनी मिल सहकारी समितियों के साथ जुड़े हुए हैं, जिनमें से 37 लाख किसानों ने 2017-18 के पिछले क्रशिंगसीजन में 1,111 लाख टन गन्ना की आपूर्ति की थी।

किसानों द्वारा 35,454 करोड़ रुपये के गन्ने की आपूर्ति

उत्तर प्रदेश में 2017-18 (भारत भर में, 528 चीनी मिलों 2017-18 में क्रशिंग हुआ) में 119 चीनी मिलों द्वारा गन्ना क्रशिंग से  121 लाख टन चीनी (1,111 लाख टन गन्ना क्रशिंग) का उत्पादन किया। क्रशिंग सीजन में, 37लाख गन्ना किसानों ने 35,454 करोड़ रुपये के गन्ने की आपूर्ति की। राज्य में गन्ना उत्पादकता वर्तमान में 79.1 9 टन प्रति हेक्टर है, जो राष्ट्रीय औसत से प्रति हेक्टर 72.38 टन 7% अधिक है।देश के कुल चीनी उत्पादनमें उत्तर प्रदेश का योगदान 38% है। राज्य में कुल गन्ना क्षेत्र 23 लाख हेक्टर है।

राज्य में 119 चीनी मिलों के साथ-साथ उनकी सहायक 61 को-जनरेशन इकाइयां 1,555 मेगावाट बिजली का उत्पादन करती हैं, जो राज्य की ऊर्जा समस्या को हल करने और स्थानीयअर्थव्यवस्था को मजबूत बनानेमें सहयोग करती है।इसके साथ ही 32 डिस्टिलरी और इथेनॉल इकाइयां हैं, जिनकी कुल उत्पादन क्षमता प्रति दिन 2,668 किलोलीटर है।

इथेनॉलअल्कोहोल,  अक्षय ऊर्जा और बहुत कुछ

चीनी के बाद  मोलासिस से  औद्योगिक अल्कोहोल, पीने योग्य शराब (देश और विदेशी शराब), खमीर, मवेशी फ़ीड और इथेनॉल  का  उत्पादन किया जाता है, इथेनॉल भी रासायनिक उद्योग और संशोधित भावनाऔर विभिन्न मूल्यवर्धित रासायनिक उद्योगों द्वारा खाया जाता है।इसी प्रकार, बैगेज  से अक्षय ऊर्जा, कागज, बोर्ड, फर्नीचर, टॉयलेट पेपर, कार्डबोर्ड, टेबलवेयर और डिनरवेयर उद्योग को बढ़ावा दिया जाता हैं।प्रेसमड के आधार पर  जैविक खाद, बायोगैस और विभिन्न उद्योगों के लिए ईंधन उत्पादन किया जाता है।

इसके अलावा चीनी और चीनी मिलों से उत्पादित अन्य उप-उत्पादों का उपयोग  खाद्य उद्योगों में किया जाता है, जैसे के पेय पदार्थ, जाम, बेकिंग, कैनिंग और ठंड, कैंडी, दवा उद्योग और सामान्य खाना पकाने, औरकच्चे माल के रूप में किया जाता है। गैर-खाद्य उद्योग जैसे सीमेंट और गोंद, कुछ प्रकार के डिटर्जेंट,कपड़ा उद्योग और कुछ फार्मास्यूटिकल्स और दवाईयां बनाने में भी चीनी उद्योग बड़ी भूमिका निभाता है।

5.66 करोड़ लोग गन्ना  और चीनी उद्योग पर निर्भर

उत्तर प्रदेश के 44 जिलों में इन 37 लाख किसानों के 2.67 करोड़ परिवार के सदस्यों (सिर सहित) की आजीविका का मुख्य स्रोत गन्ना खेती है। इन 37 लाख किसानों पर  2.96 करोड़ कृषि मजदूर और उनके परिवारके सदस्य निर्भर हैं।उसी के साथ 119 चीनी मिलों प्रति मिल 500 मजदूरों की दर से 60,000 मजदूर कम कर रहें है, जिसका मतलब है कि इस ६०००० मजदूरों सहित उनके परिवार के लगभग 3 लाख सदस्य चीनीमिल पर निर्भर हैं।उत्तर प्रदेश में कुल 5.66 करोड़ लोग गन्ना  और चीनी उद्योग पर निर्भर हैं।

उपउत्पादों से  11,300 करोड़ रुपये का राजस्व 

2017-18 में, जीएसटी, प्रशासनिक शुल्क, राज्य उत्पाद शुल्क और चीनी उद्योग-गुड़, बैगेज, प्रेस मिट्टी, इथेनॉल और गुड़ से उत्पादित अल्कोहोल के प्रमुख उप-उत्पादों पर निर्यात शुल्क से

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here