2,400 रुपये में हुआ चीनी निर्यात का सौदा

1760

पुणे: अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी के दाम बढ़ने से भारत को इसका काफी फायदा होता हुआ नजर आ रहा है। आपको बता दे, वैश्विक स्तर पर खपत के मुकाबले चीनी की आपूर्ति इस साल कम होने से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी के दाम में जबरदस्त तेजी आई है, जिससे देश के चीनी मिलों को अपनी अधिशेष चीनी को कम करने में मदद मिल रही है।

महाराष्ट्र की चीनी मिलें भी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेजी का पूरा लाभ उठा रहे है। सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र से चीनी निर्यात का व्यापर 2400 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से हुआ। जिससे राज्य के त्रस्त चीनी उद्योग को अच्छी खासी राहत मिली है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी की कीमतों में बढ़ोतरी से भारतीय चीनी मिलों को फायदा हुआ है, क्योंकि देश से चीनी निर्यात की मांग बढ़ी है। आज लंडन व्हाइट शुगर 2.70 डॉलर बढ़कर 396.10 पे व्यापर हो रहे है। और उसी के साथ, यूएस शुगर लगभग कल के क्लोजिंग रेट पे 14.46 सेंट्स पर ट्रेड हो रहा है।

हालही में नेशनल फेडरेशन ऑफ को-ऑपरेटिव शुगर फैक्टरीज लिमिटेड ने बताया था की अब तक 28 लाख टन चीनी निर्यात सौदा तय किया गया है और साथ उनका अनुमान था कि इस साल चीनी निर्यात 60 लाख टन का लक्ष्य पूरा हो सकेगा।

वैश्विक स्तर पर दो साल में पहली बार कुल उत्पादन अनुमानित मांग के मुकाबले 60-70 लाख टन कम है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में, रॉ-शुगर की कीमत पिछले तीन महीनों में 18 प्रतिशत बढ़ गई है और व्हाईट शुगर की कीमत नौ प्रतिशत से अधिक हो गई है, जिससे भारतीय चीनी मिलों को निर्यात में मदद मिली है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here