‘शुगर फ्री’ ट्रेंड से चीनी खतरे में..!

873

नई दिल्ली : चीनी मंडी

दुनिया भर में खाद्य कंपनियां से चीनी की मांग घटने से चीनी की कीमतें तीन साल के निचले स्तर के करीब पहुंच चुकी हैं, मधुमेह, मोटापे और हृदय रोग सहित स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के बीच खाद्य कंपनियां चीनी का विकल्प ढूंढ रही है और शुगर फ्री’ ट्रेंड को अपना रही है। एक तरफ दुनियाभर में चीनी का रिकॉर्डस्तर पर उत्पादन होने की सम्भावना जताई जा रही है, तो दूसरी तरफ चीनी की मांग में कोई इजाफा नहीं देखा जा रहा, लेकिन बाज़ार में चीनी के मुकाबले मकई और गेहूं जैसी कमोडिटी की मांग में बढ़ोतरी देखी जा रही है ।

वायदा कीमतों में भाव 30.5% गिर गया

वायदा कीमतों में मकई के लिए 2% और गेहूं के लिए 28% की वृद्धि हुई है, जबकि कच्चे चीनी वायदा इस वर्ष अब तक 30.5% गिर गया है, जो आईसीई फ्यूचर्स यू.एस. एक्सचेंज पर 10.54 सेंट प्रति पाउंड है। चीनी अब इस साल सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली वस्तु में शुमार हो चुकी है और सट्टा बाज़ार में भी चीनी पर 2 से 1 तक सट्टेबाजी कर रहे हैं, इसका साफ़ मतलब यह है की आने वाले दिनों में भी चीनी की कीमतों में गिरावट जारी रहेगी।

ब्राजील चीनी घाटे बेच रहा…

चीनी की कीमतों में उल्लेखनीय गिरावट दुनिया भर के विभिन्न तरीकों से खेल रही है। उपभोक्ताओं को यूरोप में लाभ उठाना है, जहां चीनी की कीमतें विश्व बाजार की कीमतों को ट्रैक करती हैं, और मध्य पूर्व और कनाडा के कुछ हिस्सों में, जहां चीनी की कीमतों में चीनी आयात की जाती है।
चीनी की मांग घटने से ब्राजील जैसे बड़े उत्पादक देश उत्पादन से भी कम कीमतों पर घाटे में चीनी बेच रहे हैं । उससे वहाँ चीनी उद्योग को भरी नुकसान भी झेलना पड़ रहा है।

उपभोक्ताओंकी हेल्दी फ़ूड को प्राथिमिकता

50 पार्क निवेश के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एडम सरहान ने कहा, “वर्तमान में चीनी का उत्पादन और उसकी मांग का समीकरण पूरी तरह से अलग कहानी बता रही है । चीनी की कीमतें सभी स्तर पर लगातार कम हो रही हैं। उपभोक्ता भी हेल्दी फ़ूड को प्राथिमिकता दे रहे है, इससे उनके टेस्ट में बदलाव दिखाई दे रहा है, शुगरवाले खाद्य पदार्थ की जगह आइस्ड चाय और स्वादयुक्त सेल्टज़र पानी पसंद कर रहे हैं। कंपनियां भी उपभोक्ताओंकी पसंद ध्यान में रखते हुए आइस्ड चाय और स्वादयुक्त सेल्टज़र पानी को बढ़ावा दे रही हैं।

‘कोका-कोला- जीरो चीनी’ की मांग बढ़ी

मार्केट रिसर्च फर्म आईआरआई के मुताबिक, ससुक्वीन वित्तीय समूह के अनुसार, पिछले पांच सालों में अमेरिकी सोडा की बिक्री में 1.2 अरब डॉलर की गिरावट आई है, जबकि सेल्टज़र पानी की बिक्री में 1.4 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। कोका-कोला ने इतिहास में पहली बार उपभोक्ताओंका रुझान देखते हुए ‘डाएट कोक’ बाजार में उतरा और इसका असर ये हुआ की तिमाही के बिक्री आकड़ों के मुताबिक कोका-कोला ने ‘कोका-कोला- जीरो चीनी’ के प्रोडक्ट की मांग में दुगनी वृद्धि दर्ज की, जबकि उसका सबसे बड़ा ब्रांड कोका कोला में केवल 3% जादा मांग दिखाई दी ।

कोल्ड्रिंक में कैलरीज कम करने पर जोर

स्पेन में, पेप्सिको ने कहा कि उसने 2006 के मुकाबले अपने उत्पादों में चीनी की मात्रा 29% कम कर दी है और 100 से कम कैलोरी वाले शीतल पेय के दो तिहाई के लक्ष्य पार करने की ओर काम कर रही है। यूरोप का सबसे बड़ा चीनी उत्पादक सुडज़कर, पिछले महीने तेल अवीव स्थित डॉक्समैटोक के साथ एक खाद्य उत्पाद के निर्माण के लिए करार किया है । फर्म का कहना है कि, विभिन्न खाद्य उत्पादों में उपभोक्ताओंकी डिमांड ध्यान में रखते हुए 40% तक चीनी सामग्री को कम कर दिया जायेगा और उसके स्वाद में भी बदलाव नहीं होगा, ऐसी तकनीक को विकसित किया गया है ।

यूरोप, अमेरिका में चीनी की खपत नहीं बढ़ी

न्यूयॉर्क के कमोडिटी रिसर्च फर्म जे। गणेश कंसल्टिंग एलएलसी के अध्यक्ष जुडिथ गणेश चेस ने कहा, “यूरोप और अमेरिका में चीनी की खपत कई वर्षों तक नहीं बढ़ी है और वैकल्पिक स्वीटर्स के प्रसार की वजह से इसकी संभावना भी नहीं है।” आंतरराष्ट्रीय चीनी संगठन ने जुलाई के अपने मासिक अपडेट में लिखा है कि, इस वर्ष और अगले वर्ष भी विश्व में चीनी का रिकॉर्डस्तर पर चीनी का उत्पादन होने की उम्मीद है । भारत में गन्ना किसान अपने खेती का विस्तार कर रहे हैं। ब्राजील के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश है, 6.5 मिलियन टन अधिक चीनी उत्पादन किया है।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here