चीनी उद्योग को MSP में बढ़ोतरी का इंतजार…

194

गन्ना किसानों को राहत देते हुए 25 अगस्त 2021 को केंद्र सरकार ने 2021-22 के लिए गन्ने के उचित और लाभकारी मूल्य (FRP) को 285 रुपये से बढ़ाकर 290 रुपये प्रति क्विंटल करने की घोषणा की। इस फैसले से 5 करोड़ गन्ना किसानों और उनके आश्रितों के साथ-साथ चीनी मिलों और संबंधित सहायक गतिविधियों में कार्यरत 5 लाख श्रमिकों को लाभ होने की संभावना है।

FRP में बढ़ोतरी के बाद अब उद्योग चीनी के MSP को 3100 रूपये/क्विंटल से बढ़ाकर 3450-3500 रूपये/क्विंटल करने की मांग कर रहा है। चीनी मिलर्स का कहना है की, चीनी की कीमतें कुछ महीनों से कम हैं, और MSP 2019 से अपरिवर्तित बनी हुई है। साथ ही उन्होंने दावा किया की, मौजूदा बढ़ी हुई घरेलू कीमतें त्योहारी मांग और राज्य द्वारा लगाए गए लॉकडाउन में ढील के कारण अल्पकालिक हैं। वर्तमान में चीनी की कीमतें दक्षिणी क्षेत्र में 3100 से 3400 रूपये क्विंटल जबकि उत्तरी क्षेत्र में 3500 से 3600 रूपये क्विंटल हैं।

चीनीमंडी न्यूज से बात करते हुए, चीनी उद्योग के विभिन्न हितधारकों ने MSP बढ़ोतरी की मांग को लेकर अपनी बात रखी….

नेशनल फेडरेशन ऑफ कोआपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा, एफआरपी में वृद्धि पहले से तय थी और यह उम्मीद के मुताबिक आ गई है। घरेलू बाजार एस ग्रेड के लिए 32-34 रुपये प्रति किलोग्राम एक्स-मिल और एम और Spl ग्रेड के लिए 1-1.5 रुपये के प्रीमियम के ब्रैकेट में स्थिर रहने की उम्मीद है। ऐसा लगता है कि कीमतों में मौजूदा तेजी के नरमी के बाद फैसला लेने का इंतजार किया जा रहा है।

एक उद्योग विशेषज्ञ जो अपना नाम साझा नहीं करना चाहते है, उन्होंने MSP में वृद्धि की आवश्यकता पर टिप्पणी करते हुए कहा की, कई सहकारी मिलें नकारात्मक एनडीआर के कारण नए सत्र के लिए कार्यशील पूंजी ऋण प्राप्त करने में असमर्थ रही हैं। यदि MSP में वृद्धि होती है, तो मिलर्स बेहतर प्राप्ति प्राप्त करने और अपने वित्तीय प्रदर्शन को बढ़ाने में सक्षम होंगे। चीनी मिलें अपने क्रेडिट इतिहास के आधार पर और एनडीआर नामक अपने उपलब्ध संसाधनों को गिरवी रखकर बैंकों से कार्यशील पूंजी जुटाती हैं।

महाराष्ट्र चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने टिप्पणी की, एफआरपी में वृद्धि किसानों के लिए एक अच्छा कदम है। घरेलू बाजार में भी दरें थोड़ी अधिक होने की उम्मीद है।

जयवंत शुगर्स लिमिटेड के प्रमोटर डॉ. अतुल भोसले ने टिप्पणी की, किसानों के लिए एफआरपी वृद्धि आशाजनक है जिसके परिणामस्वरूप गन्ना रोपण में वृद्धि हुई है। यह अंतत: चीनी मिलों के लिए भी अच्छा है। हालांकि, चीनी की कीमतों और एफआरपी को सीधे आनुपातिक रूप से जोड़ा जाए तो बेहतर होगा।

कर्नाटक स्थित प्रभुलिंगेश्वर शुगर्स के पूर्णकालिक निदेशक वीरुपक्षय्या गुडगुंती ने साझा कहा, एफआरपी में बढ़ोतरी केंद्र सरकार का हमारे किसानों के लिए एक अच्छा कदम है, हम हमेशा अपने किसानों की बेहतरी की कामना करते हैं। चीनी उद्योगों की स्थिरता को देखते हुए, एमएसपी को आनुपातिक रूप से बढ़ाना भी आवश्यक है।

चीनी सीजन 21-22 के लिए, एफआरपी में ₹ 5 / क्विंटल की वृद्धि की गई है। संचयी रूप से, दो वर्षों में FRP में ₹15/क्विंटल की वृद्धि हुई है, जबकि MSP वही है। चीनी की बिक्री से मिलों की राजस्व में बढ़ोतरी और किसानों को समय पर गन्ना मूल्य चुकाने की क्षमता में सुधार के लिए एमएसपी में बढ़ोतरी बहुत जरूरी है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here