चीनी उद्योग को 4 साल बाद अच्छे निर्यात सीजन की उम्मीद

197

नई दिल्ली: वैश्विक कीमतों में तेजी के चलते भारत का चीनी उद्योग आगामी 2021-22 सीज़न में अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अच्छे प्रदर्शन को लेकर खुश है। इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) के महानिदेशक अविनाश वर्मा ने कहा कि, अगर कच्ची चीनी की मौजूदा कीमतें बनी रहती हैं या बढ़ जाती हैं, तो भारत अगले सीजन में 30-60 लाख टन चीनी का निर्यात कर सकता है।

द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, वर्मा ने कहा कि कच्ची चीनी के लिए 20 सेंट / पाउंड की वर्तमान कीमत कच्ची चीनी के लिए 3,100-3,150 रुपये / क्विंटल की एक्स-मिल प्राप्ति में तब्दील हो जाती है। कच्ची चीनी की उत्पादन लागत कम है और वर्तमान कीमतें मिल मालिकों के लिए अपने स्टॉक को लाभ पर निर्यात करने के लिए पर्याप्त हैं। यह कीमत उत्तरी कर्नाटक और महाराष्ट्र के मिल मालिकों के लिए विशेष रूप से सहायक है, जिन राज्यों का बंदरगाह नजदीक है। उन्होंने कहा, उत्तर भारतीय मिलों को निर्यात बाजारों में पूरे दिल से उतरने के लिए कीमतों को 21 सेंट/पाउंड के निशान को पार करने की आवश्यकता है। साढ़े चार साल बाद कच्ची चीनी की कीमतों ने यह आंकड़ा छू लिया है, जिससे उद्योग जगत का उत्साह बढ़ा है।

चीनी उद्योग को भरोसा है कि, निर्यात में तेजी की बदौलत नए सीजन के लिए शुरुआती स्टॉक पिछले कुछ सीजन के 100 लाख टन अधिशेष से कम होगा। यदि ब्राजील में एथेनॉल की ओर वर्तमान मोड़ जारी रहता है, तो भारतीय चीनी उद्योग बिना किसी सरकारी सब्सिडी के लगभग 60 लाख टन का निर्यात करने में सक्षम होगा। हालांकि, अगर अंतरराष्ट्रीय कीमतों में गिरावट आती है, तो इन स्तरों को छूने के लिए सरकारी सब्सिडी की आवश्यकता हो सकती है। वर्मा ने कहा, ऐसे मामलों में करीब 30 लाख टन बिना सब्सिडी के निर्यात होगा। अगला सीजन 100 लाख टन से कम अधिशेष के साथ खुलेगा और उद्योग से लगभग 310 लाख टन चीनी का उत्पादन होने की उम्मीद है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here