इथेनॉल उत्पादन से चीनी उद्योग को मिलेगा सीमित लाभ…

1067
नई दिल्ली : चीनी मंडी 
केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए सहायक उपायों की एक श्रृंखला के कारण चीनी कंपनियों को दूसरी तिमाही में अच्छा मुनाफा होने की उम्मीद की जा रही है। हालांकि, केंद्र के हालिया उपायों जैसे इथेनॉल की कीमतों में 25 प्रतिशत की वृद्धि और राष्ट्रीय जैव ईंधन नीति चीनी उद्योग की चक्रीयता को सकारात्मक रूप में  बदलने की संभावना नहीं है। इसके अलावा, एक रिपोर्ट में कहा गया है कि, चीनी उद्योग में जितनी खपत होगी उससे जादा आपूर्ति जारी रहेगी। इसके चलते कीमतों पर आगे भी दबाव जारी रह सकता है ।
अच्छी आय के कारण किसानों की गन्ना फसल को ही  प्राथमिकता…
अक्टूबर 2018-सितंबर 2019 के गन्ना क्रशिंग सीझन में  देश में 32-33 लाख मेट्रिक टन का बम्पर उत्पादन होने का अनुमान जताया जा रहा है, जब की घरेलू बाजार में 25-26 लाख मेट्रिक टन की खपत ही मुमकिन है।  जेएम फाइनेंशियल की रिपोर्ट में कहा गया है कि,  मिलों द्वारा करोडो का गन्ना बकाया होने के बावजूद भी किसान गन्ने की लागत से अच्छी आय के कारण गन्ने की फसल को प्राथमिकता देने की संभावना है। 2018 के सीझन में  गन्ना उत्पादन अनुमानित रूप से 420 लाख मेट्रिक टन है, जो सालाना 36 फीसदी ऊपर है और चीनी उत्पादन का अनुमान 32.2 लक्झ मेट्रिक टन है, जो करीब 60 प्रतिशत ऊपर है।
इथेनॉल उत्पादन के लिए  1 लाख मेट्रिक टन गन्ना 
गन्ना बकाया को कम करने और जैव-ईंधन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए, सरकार ने इथेनॉल खरीद मूल्य बढ़ाया है और बी हेवी गुड़ (मध्यस्थ गुड़) और इथेनॉल उत्पादन के लिए गन्ने के रस के उपयोग को अधिकृत किया है। जबकि बी भारी गुड़ और प्रत्यक्ष गन्ने का रस मार्ग वर्तमान चीनी / इथेनॉल की कीमतों पर व्यवहार्य है। लेकिन उत्पादन क्षमता, भौगोलिक स्थिती और उद्योग गतिशीलता-खंडित उद्योग, औद्योगिक / अल्कोहोल के लिए मांग और तो और इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल (ईबीपी) के लिए अस्थिर मांग को देखत हुए  2018-19 में  इथेनॉल उत्पादन के लिए  1 लाख मेट्रिक टन  और संभवतः मध्यम अवधि के  2-3 लाख मेट्रिक टन तक गन्ने का इस्तेमाल हो सकता है । गन्ने के कुल उत्पादन की तुलना में इथेनॉल उत्पादन के लिए यह बहुत ही कम मात्रा है ।
राज्य सरकारें अब गन्ना मूल्य निर्धारण में अधिक तर्कसंगत
रिपोर्ट में कहा गया है की,  चीनी उत्पादन पर सीमित प्रभाव डालने के बाद इथेनॉल चीनी क्षेत्र की चक्रीयता को तोड़ने की संभावना नहीं है। पहले की तुलना में, राज्य शासन अब गन्ना मूल्य निर्धारण में अधिक तर्कसंगत प्रतीत होते हैं, (उदाहरण के लिए तमिलनाडु सरकार भी गन्ना मूल्य निर्धारण संबंधों की इच्छा दिखा रही है; महाराष्ट्र और कर्नाटक में पहले से ही इसकी व्यवस्था हैं)। हालांकि, गन्ने की वास्तविक कीमत का जुड़ाव अभी भी प्रभावी ढंग से काम नहीं कर रहा है,  क्योंकि मिलों को न्यूनतम मूल्य के रूप में उचित और लाभकारी मूल्य (एफआरपी) का भुगतान करना होता है, भले ही लिंक फॉर्मूला के आधार पर देय मूल्य काफी कम होगा। कम मांग और जादा आपूर्ती के कारण घरेलू और विश्व बाजार में अगले २ साल तक चीनी की कीमतें कमजोर रहने की उम्मीद है।
चीनी मिलों का मुनाफा सरकार के हाथों में…
रिपोर्ट में कहा गया है की,  सरकार को चीनी / गन्ना की कीमतों के लिए आपूर्ति और एमएसपी को विनियमित करने की उम्मीद है, हम उम्मीद करते हैं कि चीनी की कीमतें स्थिर रहेंगी और चीनी मिलों की लाभप्रदता / मुनाफा पूरी तरह से सरकार के हाथों में है। हालांकि भारत में चीनी उद्योग 2014 में पूर्ण नियंत्रण से आंशिक नियंत्रण में चले गए, हाल के उपायों, जैसे रिवर्स स्टॉक सीमा (यानी मासिक रूप से रिलीज) चीनी की न्यूनतम समर्थन मूल्य के साथ, चीनी उद्योग को फिरसे मध्ययुगीन काल में वापस ले लिया जा रहा है। हम मानते हैं कि आपूर्ति पर सख्त नियंत्रण तब तक जारी रहेगा जब तक सूची स्तर प्रबंधनीय स्तर तक नहीं आते।
ब्रोकरेज हाउसेस का सकरात्मक नजरिया…
ब्रोकरेज हाउसेस  जिन्होंने  चीनी क्षेत्र पर सतर्क रुख किया है, उन्होंने उन कारकों को भी सूचीबद्ध किया जो इस क्षेत्र पर सकारात्मक बना सकते हैं। ये करक है… ए) चीनी से कम अपेक्षाकृत चीनी उत्पादन और उच्च एमएसपी; बी) रुपए मूल्यह्रास / बेहतर वैश्विक चीनी की कीमतों के कारण भारत से अपेक्षाकृत अधिक से अधिक निर्यात); केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा गन्ना मूल्य प्रोत्साहन; राजस्व के लिए गन्ना की कीमत का औपचारिक संबंध; और ई) वर्तमान में 5 प्रतिशत से मिश्रण अनुपात में वृद्धि। जेएम फिनैंकेल ने बलरामपुर चीनी मिल्स पर ‘होल्ड’ रेटिंग और  ईआईडी पैरी को खरीदने की राय दी है, कोरोमंडल शुगर्स में अपनी हिस्सेदारी के मूल्य के कारण जेएम फिनैंकेल ने यह राय रखी है।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here