धोखाधड़ी के आरोप वाली चीनी मिल ने की दिवालिया होने की घोषणा

467

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

चेन्नई : चीनीमंडी

तंजावुर में थिरु अरूरन शुगर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड से 32 करोड़ रुपये की बकाया राशि पाने के लिए इंतजार कर रहे सैकड़ों किसानों के साथ ही, मिल ने दिवालिया होने की घोषणा की है। पहले से ही गन्ना किसानों को विभिन्न राष्ट्रीयकृत बैंकों को ऋण के रूप में करोड़ों रुपये चुकाने पड़ रहे हैं, जिसे चीनी मिल अधिकारियों ने बैंकरों और सरकारी अधिकारियों की मदद से धोखे से लिया था।

थिरुवान जिले में सैकड़ों गन्ना किसानों को थिरु अरूरन शुगर्स लिमिटेड और श्री अंबिका शुगर्स लिमिटेड ने अभी तक उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) का भुगतान नहीं किया है। चीनी मिल अधिकारियों ने सालों से एफआरपी के लंबित बकाये का भुगतान नहीं किया है। चीनी आयुक्त को दिए जवाब में, मिल अधिकारियों ने स्वीकार किया कि उन्होंने 4,824 किसानों के नाम पर 82.40 करोड़ रुपये का ऋण लिया था। इस बीच, कुड्डलोर पुलिस ने पिछले महीने कुड्डालोर के किसानों द्वारा दर्ज कराई गई एक शिकायत के आधार पर धन के कथित दुरुपयोग के लिए मिलों के प्रबंध निदेशक आर वी. त्यागराजन को गिरफ्तार किया। इसके बाद, उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया और उनके खिलाफ अभी तक तो कोई और कार्रवाई शुरू नहीं की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here