चीनी मिलें 18 प्रतिशत तक किसानों का गन्ना बकाया कम कर सकेंगी  

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

इससे भारतीय निर्यातकों को प्रति किलो 1 रुपये लाभ होने का अनुमान है।

पुणे: चीनी मंडी

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल रेटिंग्स ने कहा की, चीनी की कीमतों में 7 प्रतिशत की बढोतरी और अंतरराष्ट्रीय कीमतों में मामूली वृद्धि से निर्यात में सुधार, भारतीय चीनी मिलों को अपने ऑपरेटिंग (परिचालन) मार्जिन में सुधार करने में मदद करेगा, क्योंकि मिलों को 3,300 करोड़ रुपये का अतिरिक्त नकदी प्रवाह मिलेगा। इससे चीनी मिलें 18 प्रतिशत तक गन्ना बकाया कम कर सकेंगी।

क्रिसिल के निदेशक गौतम शाही ने कहा, उच्चतर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का मतलब होगा कि, गैर-एकीकृत मिलर्स यहां तक कि एसएस में 1-2 प्रतिशत की तुलना में इस चीनी सीजन में 2-5 प्रतिशत के निम्न एकल मार्जिनल ऑपरेटिंग मार्जिन को तोड़ सकते हैं या रिपोर्ट कर सकते हैं। जबकि एकीकृत खिलाड़ी 9-12 प्रतिशत की तुलना में 13-15 प्रतिशत की संख्या देख सकते हैं। इंटीग्रेटेड शुगर मिलर्स को फास्ट-ट्रैकिंग इथेनॉल मैन्युफैक्चरिंग से भी फायदा होता रहेगा। दुनिया के उत्पादन में लगभग 5 फीसदी की गिरावट और दुनिया के सबसे बड़े चीनी उत्पादक ब्राजील में 12 फीसदी की गिरावट के साथ अंतरराष्ट्रीय चीनी कीमतों में कमी आने की उम्मीद है।

इससे भारतीय निर्यातकों को 100-200 करोड़ रुपये की अतिरिक्त तरलता मिलने से 1 रुपये प्रति किलोग्राम का लाभ होने का अनुमान है। क्रिसिल के निदेशक हेतल गांधी ने कहा, एमएसपी में वृद्धि निश्चित रूप से वर्तमान उच्च से बकाया को घटाकर चीनी सीजन 2019 के अंत तक 16,500 करोड़ रुपये कर देगी, फिर भी वे पिछले तीन चीनी सत्रों के औसत 9,000 करोड़ रुपये से ऊपर बने रहेंगे। क्रिसिल का अनुमान है कि, घरेलू चीनी की कीमतों में मिलरों के नकदी प्रवाह में 3,200- 3,400 करोड़ रुपये का इजाफा होगा। अंतरराष्ट्रीय चीनी की कीमतों में वृद्धि से 100-200 करोड़ रुपये का इजाफा होगा, इस सीजन में कुल भराव 3,400-3,600 करोड़ रुपये होगा।

चीनी की कीमतों में उछाल को देखते हुए सीजन 2019 में भी स्टैंडअलोन मिलों के टूटने की आशंका है। इससे मिलों को अपनी उत्पादन लागत को कवर करने में मदद मिलेगी, जो कि यूपी में 33 रुपये प्रति किलोग्राम और महाराष्ट्र और कर्नाटक में 31-32 रुपये प्रति किलोग्राम होने का अनुमान है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here