एनजीटी के आदेश पर चीनी मिल बंद

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

करनाल: चीनी मंडी

पिकाडिली चीनी मिल को बुधवार को पेराई के बीच में बंद कर दिया गया था, जिसके कारण सैकड़ों किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया। मिल अधिकारियों ने दावा किया कि, उन्होंने हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एचएसपीसीबी) और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश के अनुपालन में कदम उठाया है, जबकि किसान शेष उपज की बिक्री के लिए एक महीने की छूट की मांग कर रहे हैं।

भारतीय किसान यूनियन और गन्ना संघर्ष समिति के बैनर तले किसानों ने मिल के गेट पर धरना शुरू किया और बुधवार को विरोध प्रदर्शन तेज करने की धमकी दी। मिल के सलाहकार करम सिंह ने कहा की, मिल बंद न होने पर ‘एचएसपीसीबी’ ने हमें सख्त परिणाम भुगतने की चेतावनी दी थी, हमारे पास कोई और विकल्प नहीं था। हम किसानों के साथ हैं, लेकिन हम एनजीटी के आदेश के खिलाफ नहीं जा सकते। उन्होंने कहा कि, चालू सीजन में 52.75 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई की गई, जबकि पिछले साल 69 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई की गई थी।

गन्ना संघर्ष समिति के अध्यक्ष रामपाल चहल ने कहा कि, उन्हें कुछ दिन पहले अधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि मिल का संचालन जारी रहेगा, लेकिन मंगलवार को बिना किसी पूर्व सूचना के इसे रोक दिया गया। किसान गन्ना लेकर आए और उनकी फसल को उतारने से रोका गया। हम केवल एक महीने की छूट की मांग कर रहे हैं, ताकि किसान अपनी उपज बेच सकें।

बाद में शाम को, अधिकारियों ने किसानों को सूचित किया कि, उनकी बची हुई फसल को अन्य मिलों में समायोजित किया जाएगा, जिससे गुस्सा फूट पड़ा और किसानों ने सड़क को अवरुद्ध कर दिया। किसान नेताओं द्वारा उन्हें शांत किया गया, जिसके बाद उन्होंने नाकाबंदी हटा दी। हालांकि, उन्होंने अपने भविष्य की कार्रवाई पर चर्चा करने के लिए मिल में बुधवार को एक किसान पंचायत आयोजित करने की घोषणा की।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here