कोरोना वायरस: हैण्ड सैनिटाइज़र के लिए चीनी मिलों द्वारा उत्पादित इथेनॉल इस्तेमाल करने पर महाराष्ट्र सरकार की योजना

253

मुंबई : चीनी मंडी

हैण्ड सैनिटाइज़र उत्पादन में एक अहम घटक के रूप में इस्तेमाल किये जाने वाले इथेनॉल का चीनी मिलों द्वारा उप-उत्पाद के रूप में निर्माण किया जाता है। मिल्स इथेनॉल को तेल विपणन कंपनियों को ईंधन के रूप में बेचते हैं। सैनिटाइज़र उत्पादन में जल और अन्य कारकों के साथ-साथ 70 प्रतिशत इथेनॉल का उपयोग किया जाता हैं। चिकित्सा शिक्षा और संस्कृति मंत्री अमित देशमुख, जिनका परिवार राज्य की कई चीनी मिलों को नियंत्रित करता है, ने कहा कि, महाराष्ट्र सरकार सैनिटाइज़र का निर्माण करने के लिए चीनी मिलों द्वारा उत्पादित इथेनॉल के इस्तेमाल पर विचार करेगी। देशमुख ने कहा कि वह राज्य में हैंड सैनिटाइज़र की उचित आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए मिलों में निर्मित इथेनॉल के उपयोग के इस मार्ग का पता लगाएंगे।

कोरोनावायरस (COVID-19) के प्रकोप के बाद से, हैण्ड सैनिटाइज़र की आपूर्ति कम हो गई है। केंद्र सरकार ने आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत हैंड सैनिटाइज़र और मास्क को शामिल किया हैं। हैंड सैनिटाइज़र और मास्क के उच्च मांग के कारण ब्लैक मार्केट में तेजी देखी गई। कोरोनावायरस महामारी के दौरान हाथ की स्वच्छता के महत्व को देखते हुए, हैण्ड सैनिटाइज़र की मांग में काफ़ी इजाफा हुआ है। महाराष्ट्र में भारत में अब तक कोरोनोवायरस के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here