चीनी मिल घोटाला: एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट जांच करने के लिए तैयार

960

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

लखनऊ : एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट यानी प्रवर्तन निदेशालय उत्तर प्रदेश में 2010-11 में, मायावती की कार्यकाल में, 21 चीनी मिलों के बेचने में कथित अनियमितताओं और भ्रष्टाचार की जांच करने के लिए तैयार है.

“हम चीनी मिलों को बेचने पर दर्ज एफआईआर से संबंधित दस्तावेजों की मांग करने के लिए सीबीआई को लिखेंगे. दस्तावेज प्राप्त करने के बाद, हम जांच शुरू करेंगे, ” ऐसा एक एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट अधिकारी ने कहा.

सात मिलों की बिक्री और खरीद से जुड़े आरोपों को लेकर सीबीआई ने 25 अप्रैल को सात लोगों के खिलाफ एफआईआर(FIR) दर्ज की थी.

“सात चीनी मिलों की बिक्री के संबंध में एफआईआर दर्ज की गई है। शेष 14 चीनी मिलों के लिए प्रारंभिक पूछताछ की जा रही है। अगर अनिमियता पाई जाती हैं, तो उनपर भी एफआईआर दर्ज की जाएगी.” सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा.

इस बीच, सीबीआई ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर 21 चीनी मिलों की बिक्री से संबंधित दस्तावेज मांगे हैं। सीबीआई अधिकारी ने कहा कि उन्हें यह जानने के लिए दस्तावेजों की आवश्यकता है कि उन मिलों को बेचने के लिए गठित समिति के सदस्य कौन हैं और किन प्रक्रियाओं का पालन किया गया.

सीबीआई, जो राज्य सरकार की सिफारिश पर मामले की जांच कर रही है, ने 2017 में लखनऊ के गोमती नगर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज किया था. यह मामला जालसाजी, धोखाधड़ी और कंपनी अधिनियम के तहत दर्ज किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here