चीनी मिल कर्मचारी भूखे पेट ले रहें चुनावी रैलीयों में हिस्सा….

437

कोल्हापुर : चीनीमंडी

चीनी मिल कर्मचारियों की हालत काफी खस्ता हुई है, किसी का आधा साल, किसी का एक साल का वेतन लंबित है। फिर भी ये कर्मचारी अपने मिल के अध्यक्ष या निदेशक के साथ उम्मीदवारों के चुनाव प्रचार में सबसे आगे हैं। तपती गर्मी में भी अपने मालिकों को खुश कर रहे हैं।

राज्य में सहकारी और निजी चीनी मिलों का एक बड़ा नेटवर्क है। पिछले दो वर्षों से, चीनी मिलों को आर्थिक रूप से बहुत समस्याओं का सामना करना पड़ा है। गन्ना किसानों को एफआरपी के अनुसार पखवाड़े के भीतर भुगतान करना आवश्यक है। हालांकि, बहुत सारी मिलें इस राशि का भुगतान नहीं कर सकी। घरेलू और वैश्विक बाजारों में चीनी की कीमत, उत्पादन लागत से कम है। जिसके कारण चीनी बिक्री बिल्कुल ठप्प हो चुकी है, इसके परिणामस्वरूप चीनी मिलों के गोदाम चीनी बैग से भरे हुए हैं। चीनी मिलों द्वारा कच्चे माल के आपूर्तिकर्ताओं, ट्रांसपोर्टरों, गन्ना फसल आपूर्तिकर्ताओं का अरबों रुपये का भुगतान लंबित है। इस सूची में दिन रात चीनी मिल में काम करने वाला श्रमिक वर्ग भी है।

प्रत्येक चीनी मिल में पांच सौ से दो हजार श्रमिक होते हैं। कुछ मौसमी हैं और कई बारहमासी हैं, लेकिन उद्योगों की मंदी ने चीनी मिलों की अर्थव्यवस्था को खराब कर दिया है। मिलों के मजदूर भी प्रभावित हैं। चूंकि गन्ना उत्पादक मतदाता हैं, इसलिए उन्हें अपना भुगतान करना होगा। केवल एक कारक जिसे आसानी से अनदेखा किया जा सकता है वह है श्रमिक। संगठित होने के बावजूद, वे नौकरी की आवश्यकताओं के सामने ज्यादा शोर नहीं मचा सकते। इस बीच इन श्रमिकों के पास कोई वेतन नहीं है, लेकिन उन्हें मिल के निदेशकों के प्रत्येक राजनीतिक गतिविधि में योगदान करना होता है। इस वर्ष, महाराष्ट्र में लगभग 50,000 चीनी श्रमिक अपने नेताओं के लिए भूखे पेट ले रहें चुनावी रैलीयों में हिस्सा ले रहे हैं।

मिल श्रमिक एसोसिएशन के कोल्हापुर जिला कोषाध्यक्ष सर्जेराव हल्दकर ने कहा की, कोल्हापुर जिले में दत्त, जवाहर, शरद और गुरुदत्त जैसे कुछ चुनिंदा चीनी मिलों के वेतन का भुगतान मासिक आधार पर किया जाता है। लेकिन इन मिलों के श्रमिकों को भी अपने नेताओं के प्रचार में भाग लेना ही पड़ता है। चीनी उद्योग में मंदी ने राज्य में लगभग 50,000 श्रमिकों को प्रभावित किया है। इनमें से अधिकांश श्रमिकों का वेतन छह महीने से लेकर वर्षों तक बकाया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here