चीनी मिलों को ऑक्सीजन उत्पादन के लिए पायलट प्लांट की सफलता का इंतजार

255

मुंबई: महाराष्ट्र में चीनी मिलें अपने इथेनॉल संयंत्र में ऑक्सीजन का उत्पादन करने के लिए उस्मानाबाद जिले में स्थित धाराशिव चीनी मिल में शुरू पायलट प्रोजेक्ट के परिणाम की प्रतीक्षा कर रही हैं। पायलट प्रोजेक्ट की सफलता महाराष्ट्र में बाकी चीनी मिलों और अन्य गन्ना उत्पादक राज्यों के लिए ऑक्सीजन का उत्पादन करने के लिए दरवाजे खोल सकती है। वर्तमान में कोरोना वायरस मरीजों के लिए ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है।

धाराशिव मिल के चेयरमैन अभिजीत पाटिल को भरोसा है कि, पायलट प्रोजेक्ट सफल होगा। धाराशिव मिल ने अपने इथेनॉल संयंत्र को संशोधित किया है, जो वायुमंडल के ऑक्सीजन को पकड़कर और प्रसंस्करण करके हर दिन 20 मीट्रिक टन मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन उत्पन्न करने की उम्मीद है। ऑक्सीजन को मेडिकल-ग्रेड में शुद्ध करने के लिए आवश्यक संशोधन किये गये है।

पिछले हफ्ते, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने मिलों को ऑक्सीजन निर्माण के लिए आगे आने और योगदान देने की अपील की थी।

पाटिल ने कहा कि प्रतिदिन 60 किलो लीटर की क्षमता वाले इथेनॉल संयंत्र के माध्यम से प्रति दिन 20 मीट्रिक टन मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन उत्पन्न किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि, अगले पांच से छह दिनों में परीक्षण शुरू हो जायेगा। अकेले उस्मानाबाद जिले में 18 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की कुल दैनिक आवश्यकता है। यदि यह परियोजना सफल होती है, तो वह उस्मानाबाद जिले की वर्तमान आवश्यकता को पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि, अन्य जिलों की चीनी मिलें भी इसी तरह के संयंत्र लगा सकती हैं और अपने जिलों की जरूरतों को पूरा कर सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here