अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर के उत्पादन में जुटी चीनी मिलें चाहती है निर्यात की अनुमति

1552

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश में हैंड सैनिटाइजर निर्माण क्षमता प्रतिदिन 300,000 लीटर पहुँच गई है और अब चीनी मिलों ने अल्कोहल आधारित सैनिटाइज़र निर्यात की अनुमति मांगी है। केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए घरेलू बाजार की उपलब्धता को बनाए रखने के लिए 6 मई को अल्कोहल आधारित सैनिटाइज़र के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था, हालांकि गैर-अल्कोहल आधारित सैनिटाइज़र को निर्यात के लिए अनुमति दी गई है।

वर्तमान में, यूपी में 87 इकाइयाँ व्यावसायिक रूप से हैंड सैनिटाइटर का निर्माण कर रही हैं, जिनमें से 37 स्टैंडअलोन सैनिटाइजर प्लांट, 27 चीनी मिलें, 12 डिस्टिलरी और 11 स्वतंत्र इकाइयाँ हैं। बिज़नेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के मुताबिक, कुछ प्रमुख निजी क्षेत्र के चीनी निर्माताओं, जिन्होंने अतिरिक्त हैंड सैनिटाइजर उत्पादन स्थापित की हैं, उन्होंने थोक उत्पादन के मद्देनजर निर्यात परमिट के लिए आवेदन किया है।

खबरों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में हैंड सैनिटाइजर इकाइयों को अब विदेशी खरीदारों से भी व्यापार की पूछताछ मिल रही है। लेकिन निर्यात पर विचार करने से पहले सरकार घरेलू बाजार में पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here