प्रशासन ने किया चीनी गोदाम सील

1147

 

सिर्फ पढ़ो मत अब सुनो भी! खबरों का सिलसिला अब हुआ आसान, अब पढ़ना और न्यूज़ सुनना साथ साथ. यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

सांगली : चीनी मंडी

एफआरपी बकाया मामले में सांगली जिल्हा राजस्व प्रशासन ने डालमिया शुगर्स (निनाई देवी)और विश्वास सहकारी चीनी मिल के चीनी गोदामों को सील कर दिया है। सोमवार को (3), दत्त इंडिया (वसंतदादा), केन एग्रो और महाकाली मिल पर कार्रवाई की जाएगी। इन गतिविधियों ने मिलों में हलचल पैदा कर दी है।

चीनी मिलों ने तीन महीने से पेराई सत्र शुरू किया, लेकिन एक चीनी मिल ने गन्ना उत्पादकों को एफआरपी भुगतान नहीं किया है। जब की गन्ना कटाई के बाद 14 दिनों में बिलों का भुगतान करना अनिवार्य है। इसलिए, स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने एफआरपी के लिए आंदोलन शुरू किया है। इसके चलते चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड ने एफआरपी बकाया भुगतान करने में नाकाम चीनी मिलों को नोटिस जारी किए हैं।

दत्त इंडिया द्वारा 62.5 करोड़, केन एग्रो 33 करोड़ 53 लाख, निनाई देवी 21 करोड़ 22 लाख, महाकाली 15 करोड़ 8.5 लाख और विश्वास 57 करोड़ 99 लाख किसानों का बकाया है। जिल्हा प्रशासन द्वारा इसे राजस्व राशि के रूप में वसूलने का आदेश दिया गया है। मिलों से चीनी, घोल, बगास आदि अन्य उत्पादों की बिक्री के कारण एफआरपी चुकाने की उम्मीद की जाती है। इस बीच, दत्त इंडिया मिल को नोटिस जारी किया गया है। मिरज के तहसीलदार शरद पाटिल ने कहा कि, अगर वह सोमवार तक एफआरपी का भुगतान नहीं करते हैं, तो सोमवार को कार्रवाई की जाएगी।

केन एग्रो पर कल होगी कार्रवाई…
केन एग्रो शुगर मिल द्वारा 33.33 करोड़ रुपये एफआरपी बकाया मामले में सोमवार को कार्रवाई की जाएगी। तहसीलदार शिल्पा ठोकड़े को महाकाली सहकारी चीनी मिल के लिए एफआरपी के लिए आरआरसी के तहत कार्रवाई के लिए सूचित किया गया है। महाकाली शुगर फैक्ट्री ने किसानों को नवंबर के अंत तक 2300 रुपये तक गन्ना पेराई की राशि दी है। मिल का एफआरपी 2340 रुपये प्रति टन है।मिल द्वारा बताया गया कि, किसानों को एफआरपी की शेष राशि का भुगतान करने का प्रयास किया जा रहा है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp 

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here