केन्या की चीनी मिलों की बढ़ सकती है मुश्किलें

129

केन्या की चीनी मिलों को युगांडा के चीनी से प्रतिस्पर्धा करना पड़ सकता है क्यूंकि द्विपक्षीय वार्ता के बाद केन्या, युगांडा से तीन गुणा ज्यादा चीनी आयात कर सकता है। दूसरी ओर, केन्या में चीनी मिलों ने दावा किया कि दूसरे देशों से सस्ते आयात के कारण उन्हें भारी नुकसान हो रहा है।

इससे पहले, मार्च के महीने में, केन्या के राष्ट्रपति उहुरू केन्याटा के साथ बातचीत के बाद, युगांडा के राष्ट्रपति योवेरी मुसेवेनी ने कहा था कि केन्या ने युगांडा से सालाना 30,000 टन बढाकर 90,000 टन चीनी आयात बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की है। हालांकि, लाइसेंस जारी करने में देरी के चलते योजनाएं सफल नहीं हो पायी।

दोनों नेता जापान में TICAD सम्मेलन के मौके पर पिछले महीने के अंत में फिर से मिले, जहां केन्याटा ने इस समझौते पर अमल करने के लिए सहमति व्यक्त की।

केन्या के मिलर्स का दावा है कि कुछ देश सस्ती चीनी का निर्यात कर रहे हैं, जिससे घरेलू चीनी क्षेत्र में बाधा आ रही है। प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, मुहोरोनी रिसीवर मैनेजर, फ्रांसिस ओको ने आशंका व्यक्त की कि अगर स्थिति ऐसी ही बनी रही तो कर्ज में डूबे चीनी मिलें और गहरे संकट में पड़ सकते हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here