महाराष्ट्र में चीनी मिलों की पेराई खत्म

744

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कोल्हापुर: महाराष्ट्र की सभी चीनी मिलों ने गन्ना पेराई पूरी कर ली है। इस सीज़न में कुल 195 कारखानों ने पेराई में भाग लिया। महाराष्ट्र चीनी आयुक्त कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार, कारखानों ने 11.16 प्रतिशत की रिकवरी दर पर 107.19 लाख टन चीनी का उत्पादन करने के लिए 951.79 लाख टन गन्ने की पेराई की है।

कोल्हापुर क्षेत्र ने 267.43 लाख क्विंटल का योगदान दिया, जो की राज्य में किसी भी क्षेत्र द्वारा सबसे अधिक चीनी उत्पादन है, जबकि नागपुर में चीनी मिलों ने 7.14 लाख क्विंटल का सबसे कम उत्पादन किया।

राज्य पहले ही पिछले सीजन का आंकड़ा पार कर चुका है। 23 मई 2018 को महाराष्ट्र चीनी आयुक्त कार्यालय के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल राज्य का चीनी उत्पादन 107.1 लाख टन था, जिसे रिकॉर्ड उत्पादन माना गया था।

107 लाख टन के आंकड़े को पार करने के साथ, यह लगातार दूसरा सीजन है जब मिलों ने इस आंकड़े को पार किया है, जो कि पिछले 10 वर्षों में राज्य में उत्पादित सबसे अधिक चीनी है।

क्षेत्रीय विशेषज्ञों ने भविष्यवाणी की थी कि राज्य में सूखे जैसी स्थिति और पानी की कम उपलब्धता के कारण पिछले साल की तुलना में इस साल चीनी का उत्पादन कम होगा, लेकिन उनके अनुमान के विपरीत, यह पिछले साल के चीनी उत्पादन को पार कर गया।

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार, देश में मिलों ने इस साल अक्टूबर 2018 से अप्रैल 2019 के बीच 32.11 मिलियन टन चीनी उत्पादन किया है। 30 अप्रैल तक केवल 100 मिलें चालू थीं। पूरे देश में चालू वर्ष में चीनी का उत्पादन लगभग 33 मिलियन टन होने की उम्मीद है, जो पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 5,00,000 टन अधिक है।

ISMA ने यह भी संकेत दिया कि 2019-20 के विपणन वर्ष में चीनी का उत्पादन कम होने की संभावना है, क्योंकि प्रमुख राज्य महाराष्ट्र में बारिश की कमी के कारण गन्ना उत्पादन में कमी आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here