उत्तर प्रदेश में चीनी मिलें नवंबर से शुरू करेंगी गन्ना पेराई

5198

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान ने कहा में राज्य में चीनी मिलें नवंबर के पहले सप्ताह से गन्ना पेराई शुरू करेंगी। गन्ना किसानों का अभी तक लगभग 6000 करोड़ रुपये चीनी मीलों पर बकाया है, इसलिए चौहान ने सीजन शुरू होने से पहले मिलों को बकाया राशि चुकाने का निर्देश दिया है।

गन्ने का बकाया भुगतान नहीं होने के कारण किसानों ने अपना विरोध तेज कर दिया है, और सरकार की ओर से कई चेतावनियों के बावजूद मिलें बकाया चुकाने में विफल रहीं।

राज्य में गन्ना किसान चिंतित हैं क्योंकि उनका पिछला बकाया अभी तक चुकाया नहीं गया है, और नया सीजन जल्द ही शुरू होने वाला है। गन्ना किसानों का दावा है कि उनकी वित्तीय स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है क्योंकि उन्हें मिलों से बकाया नहीं मिला है और वे न तो अपने परिवार का भरण पोषण कर पा रहे हैं, न ही अपने बच्चों की स्कूल फीस भर पा रहे हैं।

लंबित बकाया मुद्दों पर, गन्ना किसानों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया था। जिसके बाद, हाल ही में, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को निर्देश दिया है कि वे एक महीने के भीतर 15 प्रतिशत ब्याज के साथ गन्ने का भुगतान करे। याचिकाकर्ताओं ने दावा किया था कि बैंक से कर्ज लेने के बाद उन्होंने गन्ने की खेती की थी, लेकिन उनका बकाया भुगतान नहीं होने के कारण उनके लिए कर्ज चुकाना मुश्किल हो गया है।

इससे पहले, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गन्ना बकाया चुकाने के लिए चीनी मिलों के सामने 31 अगस्त की समय सीमा निर्धारित की थी, लेकिन इसके बावजूद मिलें वित्तीय कमी का हवाला देते हुए बकाया का भुगतान करने में विफल रहीं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here