चीनी मिलों द्वारा आगामी सत्र के लिए ठोस कार्य योजना तैयार करने की जरुरत: गन्ना आयुक्त

133

लखनऊ: प्रदेष की 14 चीनी मिलों यथा- कुन्दरकी, इटईमैदा, रूदौली, मुण्डेरवा, हैदरगढ़, प्रतापपुर, पिपराईच, सठियांव, घोसी, देवबन्द, गांगनौली, गागलहेडी, विसौली एवं न्योली के गन्ना क्षेत्रफल एवं विकास कार्यक्रमों के सम्बन्ध में वर्चुअल समीक्षा बैठक का आयोजन कल गन्ना आयुक्त कार्यालय के सभागार में सम्पन्न हुआ। समीक्षा बैठक में मुख्यालय के सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ फील्ड स्तर से सम्बन्धित परिक्षेत्रों के उप गन्ना आयुक्त, जिला गन्ना अधिकारी एवं चीनी मिलों के प्रधान प्रबन्धकों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

समीक्षा बैठक के दौरान पेराई सत्र 2020-21 में दिये गये लक्ष्यों के अनुसार कुछ चीनी मिलों की स्थिति संतोषजनक नहीं पायी गयी जिस पर गन्ना आयुक्त द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देष दिये गये कि चीनी मिलों द्वारा आगामी बुआई सत्र 2021-22 एवं 2022-23 के लिए ठोस कार्य योजना तैयार की जाए तथा उस पर शत्प्रतिषत अमल करते हुए गन्ना बुआई के निर्धारित लक्ष्यों को पूरा किया जाए। उन्होंने जिला गन्ना अधिकारियों को भी निर्देषित किया कि वह चीनी मिलवार कार्य योजना तैयार करें तथा परिक्षेत्रीय अधिकारी अपने परिक्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले चीनी मिल क्षेत्रों की समीक्षा कर लक्ष्यों की पूर्ति सुनिष्चित करायें।

समीक्षा बैठक में गन्ना आयुक्त द्वारा यह भी निर्देषित किया गया कि मुख्यालय स्तर से भी जिलों में स्थापित पौधशालाओं, महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार की गयी पौध, टिषूकल्चर लैब में तैयार पौध एवं प्रगतिषील कृषकों द्वारा तैयार की गई पौध के आधार पर आगामी दो वर्ष हेतु बीज का आवंटन किया जाय। उन्होंने यह भी निर्देषित किया कि चीनी मिल क्षेत्रों में स्थानीय आवष्यकता के अनुसार बीज वितरण हेतु योजना तैयार की जाए तथा इस कार्य योजना पर सफलतापूर्वक अमल भी किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here