आखिर कहाँ रखे चीनी…चीनी मिलों को गोदामों की तलाश

859

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई : चीनीमंडी

107.19 लाख टन चीनी के रिकॉर्ड उत्पादन के बाद, महाराष्ट्र के चीनी मिलर्स को अब काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। चूँकि गोदाम चीनी से भरे हुए हैं, चीनी मिल अब तिरपाल कवर के साथ शेड में अपने भंडार को रखने के लिए मजबूर हैं और वेयरहाउस की तलाश कर रहे हैं।

महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज फेडरेशन के प्रबंध निदेशक संजय खताल ने कहा कि, 1 अक्टूबर, 2018 को पिछले सीज़न से चीनी का कैरी फॉरवर्ड स्टॉक 53.236 लाख टन था, जिसका मतलब है कि राज्य में कुल चीनी स्टॉक लगभग 160.55 लाख टन है। अक्टूबर 2018 से मई के अंत तक लगभग 62 लाख टन चीनी बेची गई, जिसका मतलब है कि, राज्य में लगभग 98.55 लाख टन चीनी आज भी पड़ी हुई है। केंद्र ने चीनी का न्यूनतम बिक्री मूल्य 3,100 रूपये प्रति क्विंटल तय किया है। इसका मतलब है कि, लगभग 31,000 करोड़ रुपये की चीनी वर्तमान में विभिन्न चीनी मिलों में भंडारित है।

महाराष्ट्र राज्य सहकारी चीनी मिल महासंघ ने पहले ही राज्य सरकार से रियायती दरों पर राज्य और केंद्रीय गोदामों से भंडारण की जगह के प्रस्ताव के साथ संपर्क किया था। प्रस्ताव पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। मॉनसून अगले महीने आ रहा है और चीनी मिलों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे चीनी का भंडारण सावधानी से करें ताकि स्टॉक को नुकसान न हो। यदि चीनी अभी खुली जगह पर बनी हुई है, तो स्टॉक निश्चित रूप से क्षतिग्रस्त हो जाएगा। हालांकि मिलर्स मई महीने के लिए अपने बिक्री कोटा को पूरा करने की उम्मीद करते हैं, लेकिन जून से सितंबर तक मानसून के मौसम में मांग सुस्त रहने की उम्मीद है और अक्टूबर 2019 में कैरी फॉरवर्ड स्टॉक 70 लाख टन के आसपास पहुंचने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here