चीनी मिलें अब जा सकती है एंटी एजिंग क्रीम बनाने की राह पर

645

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

चीनी मिलों में गन्‍ने की पेराई से प्राप्‍त जूस से जहां चीनी बनाई जाती है वहीं उसकी खोई (bagasse) का उपयोग बिजली बनाने में ईधन के रूप में होता है। भारतीय चीनी मिलों द्वारा प्रति वर्ष लगभग 3000 लाख टन गन्‍ने की पेराई की जाती है जिससे लगभग 900-950 लाख टन खोई (bagasse) प्राप्‍त होती है।

वर्तमान परिदृष्‍य में, खोई (bagasse) को ईधन के रूप में प्रयोग कर पैदा की जाने वाली बिजली के दामों को गैर पारंपरिक श्रोतों यथा सोलर ऊर्जा के दामों से कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। जहां खोई (bagasse) से उत्‍पन्‍न बिजली की दरें लगभग रूपये 5 प्रति यूनिट है वहीं पर गैर पारंपरिक श्रोतों विशेषत: सोलर ऊर्जा की कीमतें उससे लगभग आधी हैं।

चीनी के कम दामों एवं बढ़ती लागत के कारण चीनी मिलें पहले से ही संकट में हैं वहीं खोई (bagasse) के समुचित उपयोग न होने के कारण एक नया संकट उनके सम्‍मुख आ खड़ा हुआ है। राष्‍ट्रीय शर्करा संस्‍थान, कानपुर द्वारा खोई (बगास) के वैकल्‍पिक उपयोग द्वारा कई वैकल्‍पिक मूल्‍य संबंर्धित उत्‍पाद (Value Added Product) पूर्व में बनाये गये हैं। इसी कड़ी में लगभग दो वर्ष की कड़ी मेहनत के बाद संस्‍थान के कार्बनिक रसायन अनुभाग के सहायक आचार्य डा. विष्‍णु प्रभाकर श्रीवास्‍तव के निर्देशन में शोधार्थी श्री तुषार मिश्रा द्वारा खोई (bagasse) से एक नया मूल्‍य संबंर्धित उत्‍पाद (Value Added Product) तैयार किया गया है जोकि कॉस्‍मेटिक (Cosmetic) उद्योग में विशेषत:फेस क्रीम व बोडी लोशन बनाने में प्रयोग हो सकता है। इस उत्‍पाद का प्रयोग नामी विदेशी कम्‍पनियां Anti Aging Cream बनाने में करती हैं। खोई (bagasse) में उपलब्‍ध जाइजोज को सी ग्‍लाइकोसिटिक एल्‍कोहल में परिवर्तित कर इसका उपयोग इस प्रकार की Anti Aging Cream बनाने में किया जा सकता है। इससे त्‍वचा में पड़ने वाली झुर्रियों की दर को कम करने और त्‍वचा को आकर्षक बनाने में मदद होगी। प्रारम्‍भिक परीक्षणों से यह ज्ञात होता है कि एक किलो खोई (bagasse) से लगभग 50-60 ग्राम सी ग्‍लाइकोसिटिक एल्‍कोहल प्राप्‍त किया जा सकता है। संस्‍थान के निदेशक ने बताया कि खोई (बगास) के दाम जोकि रूपये 1.50 से रूपये 2.00 प्रति किलो है। इस प्रकार के उत्‍पाद के रा मैटीरियल की कीमत लगभग रूपये 40/- प्रति किलो होगी, को देखते हुए यह उत्‍पाद चीनी मिलों के लिए एक बहुत बड़े मुनाफे का सौदा हो सकता है। उल्‍लेखनीय है कि Anti Aging Cream बाजारों में रूपये 1000/- से 1200/- प्रति 50 मिली. की कीमत पर उपलब्‍ध है जिसमें इस उत्‍पाद का प्रयोग लगभग 3% होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here