चीनी मिलों का UPPCL से बिजली का बकाया चुकाने का आग्रह…

250

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश चीनी उद्योग कमजोर चीनी-इथेनॉल बिक्री और ठप निर्यात की वजह से तरलता की कमी से जूझ रहा है। अब चीनी मिलों ने उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन (UPPCL) को अपनी बिजली को-जनरेशन परियोजनाओं का लगभग 1,157 करोड़ बकाया भुगतान करने की मांग की है, ताकि चीनी मिलें किसानों को उनका बकाया दे सकें। ये बिजली भुगतान मार्च 2019 से बकाया है। UPPCL के अध्यक्ष अरविंद कुमार को लिखे पत्र में, उत्तर प्रदेश चीनी मिलर्स एसोसिएशन के महासचिव दीपक गुप्तारा ने वर्तमान में चीनी उद्योग की अनिश्चित वित्तीय स्थिति और इसके गहरे संकट की ओर ध्यान आकर्षित किया है।

उन्होंने लिखा है की, स्थिति की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चीनी की बिक्री बेहद खराब है। चूंकि घरेलू बिक्री का लगभग 70% संस्थागत मांग होती है, जो देश में लॉकडाउन के कारण लगभग बंद हुई है, जिससे चीनी उद्योग की स्थिति को आसानी से समझा जा सकता है। गुप्तारा ने कहा कि, मिलों पर 14 दिनों के भीतर गन्ने का बकाया निपटाने के लिए वैधानिक दायित्व है और देय गन्ने का बकाया दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। मिलरों को तत्काल भुगतान की व्यवस्था की जानी चाहिए ताकि वे इन कठिन समय में किसानों को भुगतान कर सकें।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here