चीनी आयुक्त के आदेश को अदालत में चुनौती देंगे चीनी मिलें

225

राज्य के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ के 2014-15 सीजन के गन्ना बकाया मामले में मिलों को 15 प्रतिशत ब्याज का भुगतान करने के लिए कहा है, जिसके बाद से चीनी मिलें परेशान है। काफी सारे चीनी मिलों ने कहा है की वे इस आदेश को अदालत में चुनौती देंगे।

यह मामला 2014-15 के पेराई सत्र का है, जब चीनी मिलें किसानों से खरीदे गए गन्ने के लिए मूल उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) का भुगतान करने में विफल रही थीं। त्रुटिपूर्ण चीनी मिलों की संपत्तियों की जब्ती के कई आदेशों के बाद, गन्ने का बकाया चुकाया गया लेकिन धीमी गति से। नांदेड़ के किसान नेता प्रल्हाद इंगोले ने देर से भुगतान पर गन्ना भुगतान के साथ साथ ब्याज के लिए बॉम्बे उच्च न्यायालय के औरंगाबाद डिवीजन का दरवाजा खटखटाया था।इंगोले की याचिका में 1966 के गन्ना नियंत्रण आदेश का हवाला दिया गया था, जिसमें कहा गया है कि, मिलों को गन्ना खरीद के 14 दिनों के भीतर किसान को एफआरपी भुगतान करना होगा। ऐसा करने में विफ़ल रहने वाली मिलों को उसके बाद 15 प्रतिशत की ब्याज भुगतान के साथ बकाया चुकाना होता है। समय पर भुगतान सुनिश्चित करने के लिए यह क़ानून लागू किया गया है। इंगोले ने इस कानून के तहत कार्रवाई की मांग की थी।

उच्च न्यायालय और चीनी आयुक्त के बीच वार्तालाप के बाद, गायकवाड़ ने आखिरीआदेश दिया, जिसके कारण नांदेड़ डिवीजन में 20 मिलें, जिनके खिलाफ इंगोले अदालत चले गए थे, उन मिलों को भुगतान करना होगा। अपने 18 पन्ने के फैसले में, चीनी आयुक्त ने कानून का हवाला दिया और मिलों को देय ब्याज का विवरण प्रस्तुत करने के लिए कहा, और उन्हें राशि को चुकाने का निर्देश दिया।

इंगोले के अनुसार, 20 मिलों में से कई को ब्याज भुगतान के लिए लगभग 700 करोड़ रुपये की राशि जुटानी होगी, जो मिलें राज्य की राजनीति में वरिष्ठ नेताओं द्वारा चलाई जा रही है। दोनों निजी और सहकारी चीनी मिलों के संघों ने कहा है कि, वे अदालत में आयुक्त के फैसले को चुनौती देंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here