चीनी की कीमतें अगले साल तक स्थिर रहने की संभावना : मुरुगप्पा ग्रुप

835

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नई दिल्ली : चीनीमंडी

चीनी बाजार अगले साल तक देश और दुनिया भर में अधिशेष का सामना करेगा और इसके परिणामस्वरूप चीनी बाजार में 2020-21 तक मांग बढ़ने से पहले कीमतों में गिरावट देखी जा सकती है, यह मानना है मुरुगप्पा समूह के कार्यकारी अध्यक्ष, एमएम मुरुगप्पन का। पिछले कई महीनों से चीनी मांग में गिरावट के कारण अधिशेष बढ़ता ही जा रहा है।

मुरुगप्पा समूह की बात की जाए तो समूह की 225 साल पुरानी चीनी उत्पादक ईआईडी पैरी ने वित्त वर्ष 2019 में 3,283 करोड़ रुपये की कुल शुद्ध बिक्री दर्ज की। जबकि वित्त वर्ष 19 के Q4 में राजस्व में मामूली वृद्धि हुई।

तमिलनाडु में गन्ने की कमी के कारण ईआईडी पैरी ने पुदुचेरी इकाई को बंद कर दिया। बंद होने के बावजूद, मुरुगप्पा ने घोषणा की कि इसने कर्नाटक के हलियाल में अपनी चीनी रिफाइनरी को सफलतापूर्वक चालू कर दिया है। सूखे की स्थिति के कारण तमिलनाडु में केवल गन्ने की आपूर्ति कम है। अच्छे मानसून के साथ, इसमें सुधार हो सकता है। गन्ना संकट के कारण मुरुगप्पा समूह कुछ संकट में पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here