सूखे से गन्ना रोपण में कटौती; 2019-20 में चीनी उत्पादन और निर्यात घटने का अनुमान…

मुंबई : चीनी मंडी

चीनी उद्योग के कई अधिकारियों और व्यापारियों के मुताबिक, भारत का चीनी उत्पादन 2019-20 में गिर सकता है, क्योंकि देश के दो शीर्ष उत्पादक राज्यों में सूखे की वजह से किसान गन्ना लगाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। अगले साल उत्पादन में गिरावट के चलते दुनिया के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक भारत से चीनी निर्यात को घटा देगी और वैश्विक कीमते कुछ हद तक उपर जाएगी, जो 2018 में अब तक 15 प्रतिशत गिर गई है।

पानी की कमी के कारण गन्ना रोपण में गिरावट…

पानी की कमी के कारण महाराष्ट्र और कर्नाटक में कई किसान गन्ना नहीं लगा सकते है और यह अगले साल के चीनी उत्पादन में प्रतिबिंबित होगा। गन्ना रोपण के बाद 10 से 16 महीने बाद गन्ना फसल को काटा जाता है। महाराष्ट्र देश का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक है, जबकि कर्नाटक तीसरे स्थान पर है। 2019-2020 विपणन वर्ष के दौरान भारत का उत्पादन 28.5 लाख मेट्रिक टन (एमटी) से 29 मेट्रिक टन के बीच हो सकता है। उन्होंने कहा कि, अगले सीजन में महाराष्ट्र का उत्पादन 16.7 प्रतिशत घटकर 7.5 मिलियन टन हो सकता है। चीनी विपणन वर्ष अक्टूबर से सितंबर तक चलता है।गन्ना किसानों का कहना है की, हमारे पास पिछले साल लगाए गए बेंत के लिए पर्याप्त पानी नहीं है। नए क्षेत्रों पर रोपण संभव नहीं है ।जून से सितंबर मानसून के मौसम में इस साल महाराष्ट्र में अनुमान से 23 प्रतिशत कम वर्षा हुई, जबकि कर्नाटक के गन्ना के बढ़ते क्षेत्र में वर्षा घाटा इस अवधि के दौरान 29 प्रतिशत थी ।

गन्ना उत्पादन गिरता है, तो चीनी कीमतें बढ़ेगी…

महाराष्ट्र के मध्य भाग मराठवाड़ा में गन्ना उत्पादन आधा हो सकता है, जहां लोग अभी से पीने के पानी को सुरक्षित रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। पानी की कमी के अलावा, सफेद ग्रब्स का एक उपद्रव अगले सीजन में उत्पादन कम कर देगा। किसान सफेद ग्रब उपद्रव और पानी की कमी के चलते फसल उखाड़ फेंक रहे हैं। 2017-18 साल में रिकॉर्ड उत्पादन के बाद, मिलों ने अधिशेष निर्यात करने के लिए संघर्ष कर रहे थे और विदेशी बिक्री के लिए सरकार की मदद मांगी और स्थानीय कीमतों का समर्थन किया। मुंबई स्थित डीलर ने कहा कि, चीनी उत्पादन में गिरावट स्थानीय कीमतों को उठा सकती है और सरकार को निर्यात प्रोत्साहनों को रोकने के लिए प्रेरित भी करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here