सफेद ग्रब्स से महाराष्ट्र का चीनी उत्पादन 10% तक घटने की संभावना; कर्नाटक को भी लगेगा झटका

546
मुंबई: चीनी मंडी 
 
गन्ने की बम्पर फसल के बाद, देश में चीनी भंडार पिछले साल से दोगुना हो गया है। मौजूदा मौसम में एक और रिकॉर्ड फसल की उम्मीद के साथ, अधिशेष की समस्या से निपटने के लिए भारत चीनी निर्यात को सब्सिडी दे रहा है। लेकिन, दूसरी ओर भारत के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य महाराष्ट्र और पड़ोसी तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक कर्नाटक में सफेद ग्रब्स का उपद्रव बढ़ा है। इसका यह मतलब है कि,  2018-19 के फसल वर्ष के लिए चीनी उत्पादन पिछले अनुमानों की तुलना में 9% कम होने का अनुमान जताया जा रहा है। सफेद ग्रब्स के हमले से किसान परेशान है, उससे निपटने के लिए हर मुमकिन कोशिश की जा रही है, लेकिन अभी तक सफलता हाथ नही लगी है।
भारत के कच्चे चीनी निर्यात 2018-19 में 10 साल के उच्चतम स्तर पर हैं। जबकि सफेद ग्रब्स की वजह से चीनी  उत्पादन १० लाख टन तक कम कर सकता है, क्योंकि गन्ना पौधों की जड़ों पर हमला कर सफेद ग्रब फसल को  बर्बाद करती हैं। इससे प्रदेश के किसान पहले से ही तनाव में है। अगस्त से, समय पर सिंचाई के बावजूद गन्ने की अच्छी उपज नही हो पा रही है। जब हमने कारण जानने का प्रयास किया, तो हमने पाया कि सफेद ग्रब शूट कर रहे थे, किसान सोपान सालुंखे  ने कहा की, सफेद ग्रब्स गन्ने की फसल को बर्बाद कर देती है। सालुंखे 2018-19 के विपणन सत्र में केवल 20 टन गन्ना काट सकता है, जो एक साल पहले 140 टन था। मुंबई के लगभग 400 किमी (249 मील) दक्षिण पूर्व में वाडवाल गांव में उनका 2.5 एकड़ (1 हेक्टेयर) खेत सफेद ग्रब्स से प्रभावित हुआ है। गस्त और सितंबर में कम से कम सामान्य बारिश के बाद बढ़ने वाले ग्रब की वजह से इस सीजन में गन्ने के कम पैदावार की उम्मीद की जा रही हैं।
राज्य सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, जून से सितंबर मानसून ने इस वर्ष सामान्य से 23% कम वर्षा हुई। भारत के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य, उत्तर प्रदेश को सामान्य से थोड़ी कम बारिश मिली है, लेकिन ग्रबों ने फसलों को प्रभावित नहीं किया है। को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज लिमिटेड (एनएफसीएसएफ) का राष्ट्रीय संघ ने 2018-19 फसल वर्ष के लिए उत्पादन घटाकर 32.4 मिलियन टन कर दिया है, जिसमें 9.7 मिलियन टन महाराष्ट्र के लिए है। यह महाराष्ट्र के लिए 35.5 मिलियन टन और 11.5 मिलियन टन तक के पहले के राष्ट्रीय पूर्वानुमान से काफी नीचे है। ‘एनएफसीएसएफ’ के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाईकनवरे ने कहा, “हम गंभीर कीट के हमले के कारण आउटपुट नंबरों को नीचे की ओर संशोधित कर रहे हैं।”
वेस्टर्न इंडिया शुगर मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.बी.ठोम्ब्रे ने कहा कि, अतीत में स्पोराडिक कीट के उपद्रवों की रिपोर्ट एक छोटे पैमाने पर की गई है, लेकिन वर्तमान प्रकोप पहली बार इतनी व्यापक है कि इससे कुल चीनी उत्पादन पर असर पड़ेगा। किसानों के बीच विश्वास था कि, गन्ना एक मजबूत फसल है और कीट और बीमारी के हमलों का सामना कर सकती है। लेकिन किसान की वह धारणा टूट गई है। पूरे महाराष्ट्र में किसान इसे नियंत्रित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
पुणे जिले के दलाज गांव के एक किसान अशोक गिरमकर ने कहा, हमने केरोसिन, नमक और विभिन्न कीटनाशकों को छिड़ककर ग्रब्स को मारने की कोशिश की, लेकिन कीड़े जमीन के नीचे लगभग एक फीट रहते हैं। राज्य कृषि विभाग के एक अधिकारी ने कहा की , पड़ोसी कर्नाटक में भी गड़बड़ी की सूचना दी गई है। कीट उपद्रव के कारण कई किसान पेडी की फसल नहीं ले सके। अधिकारी ने कहा कि, उन्हें कटाई के बाद फसल को उखाड़ फेंकना होगा।
‘एनएफसीएसएफ’ के प्रकाश नाईकनवरे ने कहा कि,  ग्रब उपद्रव और कम वर्षा ने 2019-2020 सीज़न के लिए गन्ना खेतों को कम किया है, और कहा कि अगले वर्ष चीनी उत्पादन 29.2 मिलियन टन हो सकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए, 32.4 मिलियन टन के इस साल के चीनी उत्पादन पूर्वानुमान दूसरे सीधी वर्ष के लिए रिकॉर्ड स्थापित करेगा।  मुंबई स्थित एक व्यापारी ने कहा, लेकिन अनुमानित उत्पादन से भारत में पर्याप्त सूची में कटौती और निर्यात सीमित हो सकता है।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here