देश में 31 दिसंबर तक हुआ 77.95 लाख टन चीनी का उत्पादन

672

नई दिल्‍ली: देश में 437 चीनी मिलों ने 31 दिसंबर, 2019 तक कुल 77.95 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है। पिछले साल की समान अवधि में 507 मिलों ने 111.72 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था। यह इसी अवधि के लिए पिछले सीजन के उत्पादन की तुलना में 33.77 लाख टन कम है।

महाराष्‍ट्र में 137 चीनी मिलें परिचालन में हैं और उन्‍होंने 31 दिसंबर तक 16.50 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है। पिछले साल समान अवधि में यहां 187 मिलें चालू थी और उन्‍होंने कुल 44.57 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था। सत्र की शुरुआत से और 31 दिसंबर, 2019 तक, राज्य में औसत चीनी की रिकवरी 10 प्रतिशत के बराबर है, जबकि 2018-19 की इसी अवधि के लिए प्राप्त 10.5 प्रतिशत थी। ऐसा इसलिए है क्योंकि पेराई में बाढ़ प्रभावित गन्ना भी शामिल है, जिसमे सुक्रोज की मात्रा कम हो गई है क्यूंकि यह बाढ़ के कारण कुछ समय तक जलमग्न था। महाराष्‍ट्र चीनी आयुक्‍त के मुताबिक अहमदनगर और औरंगाबाद जिले में स्थित दो चीनी मिलों ने अपना परिचालन बंद कर दिया है, इसके पीछे वजह गन्ना कटाई के लिए श्रमिकों की अनुपलब्‍धता और गन्‍ने की कम अनुपलब्धता है।

उत्तर प्रदेश में, 31 दिसंबर, 2019 तक 119 चीनी मिलों ने कुल 33.16 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है। पिछले साल 31 दिसंबर, 2018 तक यहां 117 चीनी मिलों ने 31.07 लाख टन चीनी का कुल उत्‍पादन किया था। राज्य में यह सीजन में औसतन चीनी रिकवरी 10.71 रही जबकि 2018-2019 सीजन में औसतन चीनी रिकवरी 10.84 प्रतिशत थी। लगभग 18 से 20 चीनी मिलें इथेनॉल उत्पादन के लिए ‘बी हैवी मोलासेस’ को डाइवर्ट कर रही है।

कर्नाटक में 63 चीनी मिलों ने 31 दिसंबर, 2019 तक 16.33 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है, इसके विपरीत पिछले साल समान अवधि में यहां 65 चीनी मिलों ने 21.03 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था।

गुजरात में 15 चीनी मिलों ने 2019-20 चीनी वर्ष में 31 द‍िसंबर, 2019 तक 2.65 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है। 31 दिसंबर, 2018 तक यहां 16 चीनी मिलों ने 4.29 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 18 चीनी मिलों ने 31 दिसंबर, 2019 तक कुल 96000 टन चीनी का उत्‍पादन किया है, जबकि 31 दिसंबर 2018 को यहां 24 मिलों ने एक लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था।

तमिलनाडु में 31 दिसंबर, 2019 तक केवल 16 चीनी मिलों में पेराई शुरू हुई है, जबकि पिछले साल यहां 27 मिलों में पेराई शुरू हो चुकी थी। यहां मिलों ने कुल 95000 टन चीनी का उत्‍पादन किया है, जबकि पिछले साल यहां 1.51 लाख टन चीनी का उत्‍पादन हुआ था। 31 दिसंबर, 2019 तक बिहार में 2.33 लाख टन, हरियाणा में 1.35 लाख टन, पंजाब में 1.60 लाख टन, उत्‍तराखंड में 1.06 लाख टन और मध्‍य प्रदेश में 1 लाख टन चीनी का उत्‍पादन हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here