इस कारण अगले सीजन में घटेगा चीनी उत्पादन

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे:चीनी मंडी 

देश के कुछ हिस्सों में सूखा और सफेद ग्रब के कारण अगले सीझन में गन्ना उत्पादन और रिकवरी में भारी गिरावट के साथ उत्पादन घटकर 300 लाख टन रहने की उम्मीद है। पिछले तीन वर्षों में, यह सबसे निचला स्तर होगा। भारत दुनिया में ब्राजील के बाद दुनिया का सबसे बड़ा चीनी उत्पादक है। 2017-18 सीजन में भारत ने 322 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। अनुमान है कि, चालू सीजन के दौरान 315 लाख टन चीनी का उत्पादन होगा। चूंकि देश की आवश्यकता 260 लाख टन चीनी की है, इसलिए देश में अतिरिक्त चीनी का मुद्दा गंभीर हो गया है।

हालांकि, सरकार ने चीनी अधिशेष को कम करने के लिए 50 लाख टन निर्यात का लक्ष्य रखा है, लेकिन चीनी उद्योग के विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया है कि, इस सीजन में लगभग 30 लाख टन चीनी का निर्यात किया जाएगा। इससे अगले सीजन की शुरुआत में 125 लाख टन से अधिक चीनी मिल जाएगी। इससे अगले सीजन में चीनी के उत्पादन पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

नेशनल को-ऑपरेटिव शुगर मिल्स फेडरेशन के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा कि, देश के कुछ हिस्सों, विशेषकर महाराष्ट्र और कर्नाटक में सूखे की स्थिति के कारण गन्ने का रकबा घटा है। परिणामस्वरूप, गन्ने के लागत में भी गिरावट होगी। 2019-20 सीजन में चीनी का उत्पादन लगभग 300 लाख टन होने का अनुमान है।

इथेनॉल उत्पादन पर डेढ़ साल बाद दिखेगा परिणाम…

सरकार ने अतिरिक्त चीनी के विकल्प के रूप में इथेनॉल के उत्पादन को प्रोत्साहित किया है। इथेनॉल संयंत्र की स्थापना और आधुनिकीकरण के लिए कई रियायतें दी गई हैं। गन्ना उत्पादन घटने से अगले सीजन में इसका इथेनॉल उत्पादन पर कोई असर नहीं होगा।

चीनी मूल्यांकन में वृद्धि

इस बीच, चीनी का न्यूनतम समर्थन मूल्य 3100 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। मूल्यांकन में 100 रुपये की वृद्धि हुई है और 12.5% तक बढ़ गई है, यह 3293 रुपये होगी। बैंकों से निकासी, पैसे के वशीभूत होने के कारण, मिलों को एफआरफि चुकाने के लिए थोड़ी राहत मिली है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here