वैश्विक कीमतों में तेजी भारत को बिना सब्सिडी 60 लाख टन निर्यात करने में मदद कर सकती है

154

नई दिल्ली : भारत सरकार की सब्सिडी के बिना भी अक्टूबर में शुरू होने वाले नए सत्र में चीनी उद्योग 60 लाख टन चीनी का निर्यात कर सकता है। वैश्विक बाजारों में चीनी की कीमतें पिछलें 4 सालों की तुलना में अपने उच्चतम स्तर पर है, जिसके कारण चीनी की विदेशी बिक्री अधिक आकर्षक हुई है। उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के सबसे वरिष्ठ अधिकारी ने रायटर को बताया की, कीमतों में तेज वृद्धि से भारतीय मिलों के लिए विश्व बाजार में बिक्री करना आसान हुआ है, जिससें केंद्र सरकार नए सीजन से चीनी निर्यात सब्सिडी वापस लेने की उम्मीद है।

वेस्ट इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बी बी थोम्बरे ने कहा, सब्सिडी के बिना भी, भारत 60 लाख टन चीनी का निर्यात कर सकता है, बशर्ते बाजार 20 सेंट प्रति पाउंड से ऊपर स्थिर रहे।

चीनी की बढ़ती कीमतों को भुनाने के लिए, भारतीय व्यापारियों ने लगभग 725,000 टन कच्ची चीनी और 75,000 टन सफेद चीनी के निर्यात के लिए शिपमेंट से कुछ महीने पहले पहली बार अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।

न्यू यॉर्क में बेंचमार्क कच्ची चीनी की कीमतें मंगलवार को 4-1 / 2-वर्ष के उच्च स्तर 20.37 सेंट पर पहुंच गईं। देश की चीनी मिलों को 2021-22 सीजन में उच्च वैश्विक कीमतों का लाभ उठाकर 6-7 मिलियन टन चीनी निर्यात करने की सलाह दी गई है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here