केन्या: शुगर टास्क फोर्स चाहती है कि किसानों को गन्ना वितरण के सात दिन बाद भुगतान किया जाए

148

नैराबी (केन्या): दिसंबर 2018 में राष्ट्रपति उहुरू केन्याटा द्वारा नियुक्त शुगर टास्क फोर्स चाहता है कि, चीनी मिलों पर आयत को लेकर प्रतिबंध लगाना चाहिए और किसान-मिलर के बीच अनुबंध के प्रावधान के तहत गन्ना उत्पादक को कटाई के सात दिनों के भीतर भुगतान किया जाए, अन्यथा मिलर को दंडित किया जाना चाहिए। भुगतान में देरी करने वाले मिलर्स को बाजार दरों पर बकाया भुगतान करने के लिए कानून किया जाना चाहिए।

टास्क फोर्स ने कहा की, खराब प्रबंधन और उत्पादन की उच्च लागत यह दो चीनी उद्योग के सामने मुख्य चुनौतियां हैं। अन्य चुनौतियों में पूंजी, भारी कर्ज और अपर्याप्त कच्चे माल की कमी शामिल है। उन्होंने सार्वजनिक स्वामित्व वाली मिलों के बोर्डों और प्रबंधन के पुनर्गठन की सिफारिश की है। टास्क फोर्स ने केन्या शुगर बोर्ड की वापसी के लिए सेक्टर और चीनी उद्योग विकास परियोजनाओं के लिए चीनी विकास लेवी को विनियमित करने का आह्वान किया। टास्क फोर्स का कहना है कि, नियामक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि प्रत्येक मिलर के पास गन्ने की पर्याप्त आपूर्ति हो, इससे पहले कि वह लाइसेंस जारी करे या नवीनीकृत करे। फ़ोर्स ने किसानों, मिलरों, नियामक, चीनी अनुसंधान संस्थान, राष्ट्रीय और काउंटी सरकारों, जिसमें वस्तुओं के उत्पादन, आपूर्ति और प्रसंस्करण के समन्वय के लिए एक हितधारक समिति की स्थापना की आवश्यकता बताई है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here