देश में गन्ना बकाया 22,900 करोड़ रुपये हुआ

171

नई दिल्ली : इंडियन शुगर मिल्स असोसिएशन (ISMA) के अनुसार, चीनी मिलों का गन्ना बकाया 19.27 प्रतिशत बढ़कर 22,900 करोड़ रुपये हो गया है। चीनी की कम कीमतों के कारण मिलों की तरलता की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है, जिसका सीधा असर गन्ना बकाया भुगतान पर दिख रहा है। ISMA ने कहा कि, मिलों के राजस्व में सुधार और किसानों को समय पर गन्ना भुगतान करने के लिए, यह उम्मीद है कि सरकार मौजूदा स्तर से चीनी की न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) में वृद्धि करेगी।

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) ने कहा, MSP में वृद्धि गन्ना मूल्य बकाया की वर्तमान स्थिति को आसान कर देगा, अन्यथा यदि वर्तमान स्थिति बनी रहती है, तो गन्ना मूल्य बकाया एक मुश्किल स्तर तक बढ़ जाएगा। सरकारी आंकड़ों का हवाला देते हुए, ISMA ने कहा, इस साल गन्ने का बकाया एक साल पहले के 19,200 करोड़ रुपये की तुलना में अधिक है। पिछले कई महीनों से चीनी की मौजूदा कीमतें कम होने से मिलों की तरलता और गन्ना किसानों को भुगतान करने की उनकी क्षमता पर प्रतिकूल असर पड़ा है।

नवीनतम चीनी उत्पादन के आंकड़े जारी करते हुए, ISMA ने कहा कि मिलों ने मार्च 2021 तक चालू सीजन (अक्टूबर-सितंबर) 27.75 मिलियन टन चीनी का उत्पादन किया है, जो एक साल पहले 23.31 मिलियन टन से अधिक है। देश के प्रमुख उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन 5.9 मिलियन टन से बढ़कर 10 मिलियन टन हो गया, जबकि दूसरे सबसे बड़े उत्पादक उत्तर प्रदेश में उत्पादन उक्त अवधि में 9.77 मिलियन टन से 9.37 मिलियन टन कम हुआ है। ISMA ने 2020-21 सीज़न में देश का कुल चीनी उत्पादन 30.2 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया है, जो 2019-20 सीज़न के 27.42 मिलियन टन उत्पादन से अधिक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here