महाराष्ट्र में गन्ना पेराई सत्र चलेगा कुछ ही महीने

275

पुणे: गन्ने की उपलब्धता कम होने के कारण महाराष्ट्र में 2019-20 पेराई सत्र केवल तीन महीने तक ही चल सकता है। इंडस्ट्री के दिग्गजों के अनुसार नया सीजन महाराष्ट्र में मौजूदा हालात को देखते हुए नई सरकार के गठन के बाद यानी नवंबर के अंतिम सप्ताह या दिसंबर के पहले सप्ताह में शुरू होने की संभावना है। यह सीजन अब तक के राज्य में सबसे विलंबित सीजन हो सकता है, यह वेस्टर्न इंडिया शुगर मिल्स एसोसिएशन (WISMA) के अध्यक्ष बीबी थोम्बारे का मानना है।

उन्होंने कहा कि चीनी सत्र की शुरुआत की आधिकारिक घोषणा आमतौर पर मंत्रियों की समिति की बैठक में की जाती है। लेकिन अभी तक ऐसी कोई बैठक नहीं हुई है। अगर सरकार जल्द ही बन जाती है, तो भी मंत्रियों की समिति को बैठक आयोजित करने और सीज़न की घोषणा करने में कुछ समय लग सकता है।

उन्होंने कहा कि सूखे के लंबे समय के बाद मराठवाड़ा क्षेत्र में पिछले 20 दिनों में भारी बारिश हुई है, जिसके कारण राज्य में फिर से पेराई सत्र प्रभावित होने की संभावना है, क्योंकि मजदूर उन खेतों में नहीं जा सकते हैं जो पानी से भरे रहते हैं।

फाइनेंसियल एक्सप्रेस में छप्पी खबर के मुताबिक, महाराष्ट्र के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने कहा कि राज्य में लगभग 159 मिलों ने इस सीजन में पेराई लाइसेंस के लिए आवेदन किया था। हालांकि, सरकार के गठन में देरी और बेमौसम बारिश के कारण अगले तीन सप्ताह तक कटाई प्रभावित होने की संभावना है। इसका मतलब है कि इस सीजन में नवंबर अंत तक या दिसंबर की शुरुआत में शुरू हो सकती है।

महाराष्ट्र ने पिछले सीजन में 107 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था, जो 952.11 लाख टन गन्ने की पेराई के बाद राज्य में सबसे अधिक दर्ज की गई थी।
गन्ना उपलब्धता एक प्रमुख मुद्दा बनने के साथ, पड़ोसी राज्य कर्नाटक से गन्ने की सोर्सिंग करना बहुत मुश्किल हो गया है क्योंकि कर्नाटक सरकार द्वारा ज़ोनिंग नियमों पर विचार किया जा रहा है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here