पंजाब में लाल सड़न रोग से गन्ना खेती प्रभावित

63

चंडीगढ़: पंजाब के कई जिलों में लाल सड़न रोग (Red rot disease) की चपेट में आने से गन्ना खेती पर असर पड़ रहा है। पंजाब सरकार द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 36 गांवों में 50,000 से अधिक एकड़ तक फैले क्षेत्र में घातक ‘लाल सडन रोग फैला है। गुरदासपुर, होशियारपुर, अमृतसर, जलंधर, पठानकोट और लुधियाना के कुछ हिस्सों में लाल सडन रोग फैला हुआ हैं।

डेक्कन हेराल्ड में प्रकाशित खबर के मुताबिक, पंजाब केन आयुक्त गुरविंदर सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को कहा है की, हमने मुकरियान, पठानकोट, श्री हरगोविन्दनपुर, गुरदासपुर, अजनाला और लुधियाना में 36 गांवों में 50,000 से अधिक एकड़ से अधिक क्षेत्र का सर्वेक्षण किया है और वहां लाल सडन रोग देखा गया। पंजाब के पिछले कुछ दिनों में उच्च आर्द्रता और भारी बारिश के परिणामस्वरूप लाल सडन रोग फ़ैल गया है।

पंजाब में लाल सड़न रोग होने के पीछे के जलभराव , खरपतवारों की वृद्धि, एक ही क्षेत्र में गन्ने की निरंतर खेती और सूखे की स्थिति शामिल है। इस रोग से धीरे-धीरे पूरे पत्ते पीले और सूखे हो जाते हैं। बाद में, पूरा गन्ना सूख जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि पंजाब की मौजूदा मौसम की स्थिति जारी है, तो लाल सडन रोग अधिक फ़ैल सकता है क्योंकि यह उनके लिए सबसे अनुकूल स्थितियां हैं। आपको बता दे, प्रशासन लाल सड़न रोग से गन्ना को बचाने की पूरी कोशिश में जुटा हुआ है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here