महाराष्ट्र में गन्ने की खेती का क्षेत्रफल लगभग 3 लाख हेक्टेयर तक घटने की संभावना

983

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई : चीनीमंडी

महाराष्ट्र में गन्ने की खेती का क्षेत्र 2019-20 सीज़न में लगभग तीन लाख हेक्टेयर तक कम होने की संभावना है। चीनी आयुक्त कार्यालय द्वारा आयोजित सर्वेक्षणों में कहा गया है कि, 2018-19 के लिए रिपोर्ट की गई 11 लाख हेक्टेयर के मुकाबले 2019-20 सीज़न में 8.5 लाख हेक्टेयर से अधिक गन्ना पेराई के लिए उपलब्ध होगा।

लगातार दो वर्षों की बंपर फसल के बाद, राज्य में गन्ने की खेती के क्षेत्र को सूखे की स्थिति ने प्रभावित किया है। विभागवार सर्वेक्षणों ने गन्ने की खेती के क्षेत्र में, विशेष रूप से मराठवाड़ा, सोलापुर और अहमदनगर में घटने का संकेत दिया है। इन क्षेत्रों के मिलरों ने गन्ने की उपलब्धता के बारे में चिंता जताई है।

सोलापुर डिवीजन ने पिछले सीजन के 1.90 लाख हेक्टेयर गन्ना क्षेत्र के मुकाबले 97,000 हेक्टेयर में गन्ने की बुआई की। इसी तरह, नांदेड़ और औरंगाबाद डिवीजनों ने क्रमशः 81,000 हेक्टेयर और 84,000 हेक्टेयर गन्ने की बुआई रिपोर्ट की है। पिछले सीज़न में, नांदेड़ डिवीजन में मिलर्स के पास गन्ने की खेती का क्षेत्रफल 1.99 लाख हेक्टेयर से अधिक था, जबकि औरंगाबाद के मिलर्स ने 1.42 लाख हेक्टेयर से अधिक गन्ने की पेराई की थी। चालू सीजन में, अहमदनगर में मिलों ने 84,000 हेक्टेयर में गन्ने की बुआई की है, जो पिछले सीजन में 1.49 लाख हेक्टेयर थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here