बकाया गन्ना भुगतान: किसानों ने लिया यह बड़ा फैसला

 

सिर्फ पढ़ो मत अब सुनो भी! खबरों का सिलसिला अब हुआ आसान, अब पढ़ना और न्यूज़ सुनना साथ साथ. यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

 मुंबई : चीनी मंडी

स्वाभिमानी शेतकरी संघठन के नेता तथा सांसद राजू शेट्टी ने कहा, एकमुश्त एफआरफ़ी देने में नाकाम रही चीनी मिलों ने एफआरफ़ी के २० प्रतिशत चीनी देने का फैसला किया है। किसानों को मिलों का यह फैसला मंजूर है और हम मिलों से चीनी लेने के लिए तैयार है, और तो और हम इसे उन कीमतों पर बेचने के लिए तैयार हैं, जो मौजूदा एक्स-मिल दरों से कम है।

महाराष्ट्र के मिलर्स ने चीनी के रूप में किसानों को उनके गन्ने के बकाया का भुगतान करने का फैसला किया, किसानों के संगठन स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने प्रस्ताव पर सहमति व्यक्त की है। संगठन के नेता और सांसद राजू शेट्टी ने कहा कि, किसान जल्द ही मिलों को पत्र लिखेंगे, इस सौदे को स्वीकार करने की इच्छा व्यक्त करेंगे।

जनवरी के अंत तक, राज्य में चीनी मिलों पर गन्ना किसानों का 4,000 करोड़ रुपये बकाया है। इस हफ्ते की शुरुआत में, चीनी मिलर्स, विशेष रूप से सांगली-कोल्हापुर विभाग के मिलर्स ने, चीनी के रूप में अपने उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) का एक हिस्सा भुगतान करने का फैसला किया था। अधिकांश मिलें, जिन्होंने अब तक अपनी FRP का केवल 80 प्रतिशत भुगतान किया है, ने शेष राशि का भुगतान चीनी में करने का निर्णय लिया है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here