केन्या में सस्ते चीनी आयात के बाद गन्ना किसानों में आक्रोश

174

केन्या: सस्ते दामों पर चीनी आयात करके बाजार में भरने से केन्या के किसानों में काफी नाराजगी है। सरकार के इस कदम से स्थानीय किसानों की उपज को कम पैसे मिलेंगे।

किसानों ने जारी एक स्टेटमेंट में कृषि कैबिनेट सचिव मेवांगी किंजुरी के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि वह देश के किसानों के हितों की रक्षा करने में विफल रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि यह अत्यंत दुखद है कि चीनी उत्पादक संघ इंडस्ट्री को नियंत्रित करते हैं।

गन्ना किसानों के केन्या फेडरेशन के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष स्टीफन नरूपा ने कहा कि पश्चिमी केन्या में अधिकांश सरकरी मिलें बीमार हैं। उन्हें निजी उत्पादकों की दया पर निर्भर रहना पड़ता है। नरूपा ने कहा कि जब हमने निजी मिलों से पूछताछ की कि ऐसा क्यों है, तो हमें बताया गया कि सस्ते आयात से बाजार में चीनी की बाढ़ आ गई है।

केन्या में कई चीनी मिलों के बंद होने से नौ महीनों में उत्पादन में 8 प्रतिशत की कमी आई और पूर्वी अफ्रीकी राष्ट्र को चीनी का आयात बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

मुमियास, क्वाले और चमेलिल चीनी मिलों के बंद होने का चीनी उत्पादन पर भारी नकारात्मक प्रभाव पड़ा। सितंबर 2019 के महीने में, Nzoia और Olepito सुगर फैक्ट्रीज़ ने काम नहीं किया। और बुटली मिल ने केवल 10 दिनों के लिए गन्ने की पेराई की, और फिर वार्षिक रखरखाव के लिए बंद कर दिया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here