चीनी मिलों द्वारा मदद नहीं मिलने से सूखाग्रस्त किसानों में आक्रोश

696

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

सोलापुर : चीनी मंडी

सूखाग्रस्त सोलापुर के पीड़ितों और उनके पशुधन को सूखे के कारण बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन अभी तक एक भी चीनी मिल ने सूखे से पीड़ित किसानों की मदद नहीं की है। चीनी मिलों के इस रवैये से सूखाग्रस्त किसानों में काफ़ी आक्रोश है।

मंगलवेढा को सूखाग्रस्त तालुका के रूप में जाना जाता है। तालुका का दक्षिणी भाग स्थायी तरह से सूखा है। हालांकि, तालुका के दक्षिणी क्षेत्र में तीन निजी चीनी मिलें हैं, इसके अलावा, तालुका के पूर्वी भाग में एक सहकारी चीनी मिल है। चार चीनी मिलों के माध्यम से, आसपास के क्षेत्र में बड़ी संख्या में गन्ना पेराई की जाती है। किसानों को अपेक्षा थी की, सूखे की स्थिती में चीनी मिलें मदद के लिए आगे आयेंगी, लेकिन अभी तक तो ऐसा नही हुआ है।

इससे पहले, 2013 और 2015 में सूखे के दौरान, सभी चीनी मिलों ने सूखाग्रस्त गाँवों को वित्तीय सहायता दी थी। इस पृष्ठभूमि पर, यह देखा गया है कि वर्तमान अकाल के दौरान, चीनी मिलों ने सूखाग्रस्त लोगों की तरफ ध्यान नही दिया है। इससे तालुका के लोगों में मिलों के खिलाफ बहुत गुस्सा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here