गन्ना किसानों का जल सत्याग्रह: बकाया पाने के लिए नदी में उतरे किसान

Listen to this article

अंबाला: गन्ना किसानों ने अपना जल सत्याग्रह जारी रखा और दूसरे दिन शुक्रवार को बेगना नदी में बैठकर बकाया गन्ना भुगतान की मांग की। शुक्रवार को, क्षेत्र की कुछ महिलाओं ने भी किसानों के समर्थन के लिए विरोध स्थल का दौरा किया। किसानों ने नारायणगढ़ शुगर मिल द्वारा अपने भुगतान होने के समय तक धरने पर बैठने का फैसला किया है।

अंबाला क्षेत्र के किसान काफ़ी दिनों से अपने लंबित बकाए का इंतजार कर रहे हैं, जो 2018-19 पेराई सत्र का लगभग 101 करोड़ रुपये है। खबरों के मुताबिक, 101 करोड़ रुपये गन्ना बकाया में से, नकद बकाया लगभग 79.50 करोड़ रुपये है, जबकि मिल ने उन किसानों को लगभग 21.5 करोड़ रुपये का चेक दे दिया , जो इसे स्वीकार करने के लिए तैयार थे और उन भुगतानों को अगले साल चुकाया जाएगा। लेकिन अधिकांश किसानों ने मिल से चेक की पेशकश स्वीकार नहीं की और वे नकद भुगतान चाहते हैं।

भारतीय किसान यूनियन (हरियाणा) के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चारुणी ने कहा कि, लगभग 5,000 किसान लगभग 101 करोड़ रुपये के कुल भुगतान की प्रतीक्षा कर रहे हैं। जब इस विरोध के बारे में सवाल किया गया, तो चारुणी ने कहा, “हम उस समय तक विरोध प्रदर्शन करेंगे, जब तक कि भुगतान जारी नहीं किया जाता।”

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here