नारायणगढ़ चीनी मिल के खिलाफ गन्ना किसानों का विरोध प्रदर्शन…

242

चंडीगढ़ : नारायणगढ़ चीनी मिल द्वारा गन्ना भुगतान में देरी को लेकर गन्ना किसानों ने बुधवार को महापंचायत की। उन्होंने मिल के तौल को एक घंटे के लिए बंद कर दिया और अपनी नाराजगी को चिह्नित करने के लिए एक धरना का आयोजन किया। भारतीय किसान यूनियन (चारुनी) के प्रमुख गुरनाम सिंह चारुनी ने कहा, किसान हर साल अपने भुगतान प्राप्त करने के लिए विरोध प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होते हैं। कोई भी किसानों की बात सुनने और उनकी उपज का समय पर भुगतान करने के लिए तैयार नहीं है। चालू सत्र में 51 करोड़ रुपये का भुगतान लंबित है। पिछले सीज़न के 9 करोड़ रुपये के पोस्ट डेटेड चेक भी लंबित हैं।

नारायणगढ़ एसडीएम, अदिति को जानकारी मिलने के बाद, धरना स्थल पर पहुंचे और किसानों को मनाने में कामयाब रहे, जिसके बाद किसानों ने अपना विरोध समाप्त किया। किसान संघठन द्वारा कहा गया कि, हमें बताया गया है कि बिजली बेचने के बाद 12 करोड़ रुपये का भुगतान प्राप्त हुआ है। जल्द ही, 5 करोड़ रुपये किसानों के खातों में डिपोजिट कर दिए जाएंगे जबकि 7 करोड़ रुपये बैंक को दिए जाने हैं। हमें एसडीएम द्वारा आश्वासन दिया गया है कि किसान ऑफ सीजन में भी नियमित रूप से अपने भुगतान प्राप्त करते रहेंगे। स्थिति की समीक्षा के लिए एक और महापंचायत 5 मार्च को आयोजित की जाएगी।

दूसरी ओर, बीकेयू (रतन मान) के बैनर तले दो किसानों ने अपनी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल जारी रखी। किसानों में से एक, नरपत राणा ने कहा, “अधिकारी चाहते हैं कि हम अपना अनशन खत्म कर दें, लेकिन वे कोई ठोस आश्वासन नहीं दे पाए।” एसडीएम अदिति ने कहा कि, मालिक चीनी मिल के लिए एक निवेशक की तलाश कर रहा है। वह 15 से 20 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त करने की कोशिश कर रहे है ताकि बकाया कम किया जा सके। किसानों की मांग वास्तविक है, लेकिन मिल त्रस्त है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here