लोकसभा चुनाव से पहले गन्ना किसानों को मिलेगा तोहफा?

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

लखनऊ : चीनी मंडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पश्चिम यूपी में 10,000 करोड़ रुपये के गन्ने का उल्लेख करने के बाद, आननफानन में योगी सरकार 5 अप्रैल तक आधा बकाया चूका सकती है। सरकार ने दावा किया की, उसने गन्ना खरीद के लिए 2017-18 से लगभग 50,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।

उत्तर प्रदेश में लोकसभा के पहले चरण के चुनावों से एक हफ्ते पहले ही गन्ना किसानों का करीब 50 फीसदी बकाया पैसा मिलने की संभावना बनी हुई है। पश्चिमी यूपी के गन्ना किसानों का चीनी मिलों पर करीब 10 हजार करोड़ रुपये बकाया है। 5 अप्रैल तक इन किसानों को बकाया राशि के तौर पर करीब 5000 करोड़ रुपये दिये जाएंगे. हाल ही में मेरठ में हुई चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि, उन्हें गन्ना किसानों के बकाया के बारे में जानकारी है।

यूपी सरकार में प्रमुख सचिव संजय आर भूसरेड्डी ने शुक्रवार को बताया की, 5 अप्रैल तक गन्ना किसानों को 4,500 करोड़ रुपये से 5,000 करोड़ रुपये तक का भुगतान किया जा सकता है। जून तक गन्ना किसानों की पूरी बकाया राशि का भुगतान कर दिया जाएगा। किसानों के गन्ने का बकाया पश्चिमी यूपी में काफी समय से राजनीतिक मुद्दा रहा है। पश्चिमी यूपी में 11 अप्रैल को वोटिंग शुरू हो जाएगी।

गन्ने के बकाया भुगतान का मुद्दा यूपी के मेरठ, बागपत और मुजफ्फरनगर के लिए काफी अहम है। राष्ट्रीय लोकदल ने मामले को उठाते हुए आरोप लगाया है कि, भाजपा ने खरीद के 14 दिनों के भीतर बकाया के भुगतान का अपना चुनावी वादा नहीं निभाया है। मेरठ के किसानों ने कहा की, हम पिछले दिसंबर से भुगतान का इंतजार कर रहे हैं, भुगतान होने पर ही हम मतदान के बारे में फैसला लेंगे। भूसरेड्डी ने कहा, ‘यूपी सरकार के लिए गन्ने के बकाया का भुगतान पहली प्राथमकिता में है। केंद्र की सॉफ्ट लोन योजना की मदद से 50 फीसदी बकाया का भुगतान किया जाएगा।

भारतीय चीनी मिल संघ पहले अग्रिम अनुमानों के अनुसार, उत्तर प्रदेश भारत में गन्ने का सबसे बड़ा उत्पादक है और 2018-19 के देश के कुल उत्पादन का 45% हिस्सा यूपी से है। कीमतों में गिरावट और चीनी बिक्री ठप्प होने के कारण अधिक उत्पादन के बाद मिलों ने किसानों को भुगतान करने के लिए संघर्ष किया है। योगी सरकार किसानों पर यह आरोप लगाने की कोशिश कर रही है कि, उसने गन्ने की खरीद के लिए 2017-18 के बाद से लगभग 50,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है, जो किसी भी सरकार के लिए एक रिकॉर्ड है।

हालांकि, आंकड़ों से पता चलता है कि, तारीख के अनुसार यूपी में 10,000 करोड़ रुपये और पिछले सत्र से लगभग 250 करोड़ रुपये लंबित हैं। योगी सरकार का कहना है कि, उसने 2017-18 में 35,000 करोड़ रुपये और मौजूदा सत्र में 12,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया, जबकि पिछले समाजवादी पार्टी के शासन में 2015-16 में 18,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here