चीनी मिलों पर पुलिस शिकायत दर्ज करने का फैसला…

755

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मांड्या: कर्नाटक के मांड्या में गन्ना किसान काफी आक्रोशित है क्योंकि लंबे समय से उन्हें अपने गन्ने का बकाया अभी तक नहीं मिला है. अब, गन्ना उत्पादकों ने दो निजी चीनी मिलों के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज करने सहित कानूनी विकल्प तलाशने का फैसला किया है.

जिले की चार चीनी मिलों को किसानों को 102.35 करोड़ रुपये देना बकाया है.

किसानों ने लंबित बकाया राशि को लेकर चीनी मिलों के खिलाफ प्रदर्शन किया था, लेकिन वह कारगर साबित नहीं हुआ. अंत में, कोई राहत नहीं मिलने के कारण, 100 गन्ना किसानों ने एनएसएल शुगर्स और चामुंडेश्वरी चीनी मिलों के खिलाफ व्यक्तिगत शिकायतें लेकर पुलिस स्टेशन का रुख किया. हालांकि, वरिष्ठ पुलिस ने उन्हें सोमवार से पहले अपना बकाया प्राप्त करने का आश्वासन दिया है.

केआरआरएस के जिला उपाध्यक्ष अन्नुर महेंद्र ने कहा, “दोनों मिलें किसानों के बकाए को देने में विफल रही हैं. हम बकायादारों के खिलाफ कार्रवाई की शिकायत दर्ज करेंगे.”

समाचार रिपोर्टों के अनुसार, चार ऑपरेटिंग मिलों ने चालू सीजन में किसानों से 573.06 करोड़ रुपये का गन्ना प्राप्त किया था. हालांकि, उन्होंने 22 अप्रैल तक केवल 470.71 करोड़ रुपये का भुगतान किया.

नियम यह है कि गन्ने की फसल को कारखाने के मालिकों को सौंपने के 14 दिनों के भीतर किसानों के बैंक खातों में गन्ना राशि जमा की जानी चाहिए, लेकिन मिलर्स ऐसा करने में विफल रहे है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here