तमिलनाडु में चीनी उद्योग बेहाल; गन्ना उत्पादन बढ़ाने के लिए किस्म CO 11015 अपनाने का आग्रह

त्रिचुरापल्ली: तमिलनाडु चीनी उद्योग गन्ने की कमी और आर्थिक तंगी से जूझ रहा है, इसलिए राज्य में गन्ने की नयी किस्म पर जोर दिया जा रहा है। जिससे चीनी उद्योग को थोड़ी राहत मिलेगी।

कृषि विभाग के प्रधान सचिव गगनदीप सिंह बेदी ने कहा कि राज्य सरकार ने गन्ने की नई किस्म CO 11015 लांच की है। इस किस्म से किसानों को बेहतर उत्पादकता और लाभ प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

श्री बेदी ने करुर जिले के पुगलुर स्थित ईआईडी पैरी चीनी मिल के खेतों में उगाए गए नई किस्म के बागानों का निरीक्षण करने के बाद कहा कि गन्ने की इस नई किस्म को कोयंबतूर स्थित शुगरकेन ब्रीडिंग इंस्टिट्यूट और दूसरी एजेंसियों ने साथ मिलकर विकसित किया है। इस किस्म से कम समय में गन्ने का बड़ा उत्पादन होता है।

तमिलनाडु में अधिकांश गन्ना किसान 86032 किस्म उगाते हैं, लेकिन नई किस्म में चीनी की रिकवरी तमिलनाडु में बड़े पैमाने पर उगाई गई किस्म की तुलना में 0.5 प्रतिशत अधिक होती है। जबकि अन्य किस्मों की फसल अवधि 12 महीने की होती है। इस नई किस्म को 8 से 12 महीनों में काटा जा सकता है। उन्होंने किसानों से नई किस्म की खेती करने की अपील की।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here