गन्ने की खेती संकट में

808

कोल्हापुर जिले में भारी बारिश के कारण आजरा, गडहिंग्लज, शाहुवाड़ी, गगनबावड़ा और राधानगरी तालुकों में भारी बारिश हुई है। डॅम की क्षमता में भी वृद्धि हुयी है। इसके अलावा, भारी बारिश के कारण, कोल्हापुर की नदियों में बाढ़ आयी। जिले के 20 हजार हेक्टर गन्ने की खेती बाढ़ के पानी में जा चुकी हैं। आठ दिनों में बाढ़ का पानी कम नहीं हुआ तो गन्ना खेती का बडा नुकसान हो सकता हैं।

जिले में, कुछ स्थानों में 8 से 9 दिनों तक, कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां अत्यधिक बारिश हो रही है। इसका पानी नालियों के माध्यम से बहता है। इस पानी के कारण नदियों में बाढ़ आयी है। बाढ़ के पानी से गांव घिरे है। नदीकिनारे का बीस हजार हेक्टर क्षेत्र गन्ना पानी के नीचे पाया गया है। चार पांच दिन पानी में रहने से गन्ने का नुकसान नहीं होता लेकिन उससे ज्यादा दिन गन्ना पानी में रहा तो गन्ना ख़राब होगा। गन्ने की ऊंचाई कम होगी। दो दिन से गन्ने की खेती बाढ़ के पानी में है। रोज होनेवाले भारी बारिश के कारण नदियोंका पानी बढ़ रहा है। इस परिस्थिति में नदीकिनारे का गन्ना बचना मुश्किल होता हुआ दिख रहा हैं। आठ से दस दिन पानी के नीचे गन्ने की खेती रहने से किसानोंको बड़ा नुकसान होगा।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here