जैव ईंधन में गन्ने का इस्तेमाल चीनी उद्योग का भविष्य करेगा सुरक्षित…

0
559

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड (यूक्यू) ने अक्षय ऊर्जा और जैव प्लास्टिक में गन्ने के उपयोग का  जीन-संपादन अध्ययन में खुलासा किया है।

 कैनबेरा : चीनी मंडी

यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड में क्वींसलैंड एलायंस फॉर एग्रीकल्चर एंड फूड इनोवेशन के निदेशक प्रो. रॉबर्ट हेनरी ने कहा, चीनी उद्योग को चीनी उत्पादन से परे, बिजली का उत्पादन, परिवहन के लिए जैव ईंधन और पारंपरिक प्लास्टिक को बदलने के लिए सोचना चाहिए। जैव ईंधन के लिए गन्ने का इस्तेमाल ही चीनी उद्योग का भविष्य सुरक्षित कर सकता है।

‘यूक्यू’ के अनुसार, हेनरी टेलर गन्ने के उत्पादन के लिए जैव-ईंधन और बायोप्लास्टिक को प्रभावी ढंग से तैयार करने के लिए पहला जीन-संपादन प्रयोग कर रहा है। उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में  सहकारी अनुसंधान केंद्र द्वारा गन्ने को पुनर्जीवित करने का आह्वान किया गया है। मॉरिस ने कहा, गन्ने के जीन-संपादन चीनी उद्योग को अनुकूलन का पता लगाने की अनुमति देगा, जो विशेष रूप से पर्यावरणीय प्रभावों को कम करेगा। यह उद्योग को चीनी फसल की क्षमता को जादा से जादा उपयोगों के लिए व्यापक बनाने में मदद करेगा। बायोफ्यूल और बायोप्लास्टिक्स चीनी उद्योग के दीर्घकालिक भविष्य के लिए महत्वपूर्ण होंगे।

‘क्यूएएएफआई’ से प्राप्त शोधकर्ता गन्ने की किस्मों की एक श्रृंखला का परीक्षण कर रहे हैं, ताकि यह पता लगाया जा सके कि कौन से प्रकार इथेनॉल का प्रभावी रूप से उत्पादन कर सकते हैं। वे यूएस ज्वाइंट बायोएनेर्जी इंस्टीट्यूट और शुगर रिसर्च ऑस्ट्रेलिया द्वारा वित्त पोषित हैं। शोधकर्ता जैव प्रौद्योगिकी को बनाने के लिए गन्ने को तोड़ने वाली प्रक्रियाओं की जांच करने के लिए दिल्ली में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के साथ सहयोग कर रहे हैं। हेनरी ने कहा, गन्ना बायोप्लास्टिक से बनी बोतलें इस सहयोग के एजेंडे में सिर्फ एक उत्पाद है। अब जब हम गन्ने के आनुवांशिकी के बारे में अधिक समझते हैं, तो इस प्रकार के उत्पाद व्यावसायिक रूप से यथार्थवादी बन रहे हैं।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here