चीनी मिल पुनर्जीवित करने का प्रयास नाकाम; गन्ना किसानों ने जताई नाराजगी

255

उडुपी: उडुपी जिले में किसानों ने इस उम्मीद में 70 एकड़ भूमि पर गन्ना उगाया है, कि राज्य सरकार बीमार ब्रह्मवार सहकारी चीनी मिल को पुनर्जीवित करेगी, लेकिन मिल को पुनर्जीवित करने के सरकार के नकारात्मक रवैये को देखकर किसानों ने नाराजगी जताई है। उडपी जिले के किसानों को ध्यान में रखकर ब्रह्मवार सहकारी चीनी मिल और वराही सिंचाई परियोजना दोनों की आधारशिला 1980 में इस आधार पर रखी गई थी की यह गन्ना किसानों की सहायता करेगा। जबकि मिल ने 1985 में काम करना शुरू कर दिया था, सिंचाई परियोजना का पहला चरण 2015 में पूरा हो गया था। हालांकि, भारी नुकसान के कारण 2004 में मिल बंद हो गई। इस बीच, इसके पुनरुद्धार के लिए कई प्रयास किए गए।

2018 में, तत्कालीन मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने उडुपी जिले के किसानों से वादा किया था कि, वे मिल को पुनर्जीवित करेंगे, बशर्ते वे गन्ने की खेती शुरू करें। तदनुसार, मिल प्रबंधन ने किसान संगठनों के साथ मिलकर किसानों से गन्ना उगाने का आग्रह किया। नतीजतन, किसानों ने 70 एकड़ में गन्ने की खेती की। भारतीय किसान संघ के जिला इकाई के सचिव सत्यनारायण उडुपा ने बताया कि, दूसरे वर्ष में गन्ने की खेती को 1,800 एकड़ और तीसरे वर्ष में 8,000 एकड़ से अधिक तक बढ़ाने की योजना थी, तब तक मिल प्रबंधन और किसान संघठनों को उम्मीद थी कि, मिल को सरकार द्वारा पुनर्जीवित किया जायेगा।

उन्होंने कहा, ” लेकिन किसानों में बिल्कुल उत्साह नहीं है क्योंकि सरकार का उनका पिछला अनुभव काफी निराशाजनक था। कुछ किसानों का मानना है की, पहले मिल शुरू हो जाए, फिर वे गन्ने की खेती शुरू करेंगे।”

उडुपा ने कहा की, उडुपी जिले के सभी विधायकों को राज्य सरकार पर मिल शुरू करने के लिए दबाव बनाना चाहिए। अब तक, उनके सभी प्रयास आधे-अधूरे हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here