गन्ना कटाई मजदूरों को अगले पेराई सत्र को लेकर अनिश्चिता…

5067

पुणे: महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र के लगभग 6 लाख मजदूर गन्ने की कटाई के दौरान राज्य और पड़ोसी राज्य के अन्य हिस्सों में चले जाते हैं। इस वर्ष मिलों ने अक्टूबर में पेराई सत्र शुरू करने की योजना बनाई है, लेकिन प्रवासी श्रमिकों का कोरोना के प्रसार के कारण पेराई में हिस्सा लेना थोड़ा कठिन लग रहा है। गन्ना काटना इन श्रमिकों के लिए आजीविका का मुख्य स्रोत है, और उनमें से अधिकांश भूमिहीन किसान हैं। लेकिन, कोरोना वायरस के कारण गन्ना श्रमिक चीनी सीजन के बारे में दुविधा में फंसे है।

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार, 2019-20 में महाराष्ट्र में गन्ने का क्षेत्रफल 7.76 लाख हेक्टेयर है, जो क्षेत्र बढ़कर 11.12 लाख हेक्टेयर होने की उम्मीद है।

चीनी मिलों को गन्ना काटने के लिए गन्ना श्रमिकों की आवश्यकता होगी। हालांकि, सभी मिलों ने मशीनीकृत गन्ना काटने की फिलहाल तैयारी नहीं की हैं। अधिकांश गन्ना श्रमिकों के पास गन्ना काटने के अलावा कोई अन्य आजीविका के साधन नहीं हैं, और उनमें से अधिकांश ने ठेकेदारों से अग्रिम / एडवांस लिया है। इस बीच, राज्य सरकार ने अभी तक गन्ना कटरों के प्रवास की अनुमति नहीं दी है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here