केन्या द्वारा युगांडा से गन्ना आयात पर प्रतिबंध से किसान और व्यापारियों को नुकसान …

189

कंपाला / नैरोबी :युगांडा के व्यापारियों और गन्ना किसानों का कहना है कि, केन्या द्वारा गन्ना और चीनी आयात पर प्रतिबंध लगाने के कारण उन्हें घाटा हो रहा है। पिछले महीने, केन्याई कृषि मंत्रालय के कैबिनेट सचिव पीटर मुन्या ने घरेलू चीनी उद्योग की रक्षा करने युगांडा से गन्ने और चीनी आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था।

नेशनल क्रॉस-बॉर्डर चेयरपर्सन, गॉडफ्रे ओन्डो ओंगवेबे ने इस नुकसान को ‘बड़ा’ और ‘अचानक’ बताया। युगांडा के कच्चे माल पर प्रतिबंध लगाने के फैसले ने केन्या में गन्ना किसानों और व्यापारियों को भी प्रभावित किया है जो अब गन्ने की भारी कमी से पीड़ित है। बुसिया शुगर इंडस्ट्री, जो केन्या के लिए युगांडा के गन्ने की प्रमुख आयातक रही है, उन्होंने उत्पादन को कम कर दिया है और जिससे लगभग 200 श्रमिकों को नौकरी खोने का खतरा है। प्रतिबंध के कारण केन्याई ट्रांसपोर्टर्स, आयातकों, किसानों और ऑफ लोडर्स को नुकसान हो रहा है।

एलिजाबेथ मुयोका, एक केन्याई नागरिक, जिन्होंने युगांडा में लगभग 30 एकड़ गन्ना लगाया था, उन्होंने कहा कि, गन्ने के आयात पर प्रतिबंध से उनके लिए अपने गन्ने की कटाई और बिक्री करना मुश्किल हो गया है। हालांकि, पूर्वी अफ्रीका समुदाय (ईएसी) के राज्य मंत्री श्री जूलियस मगंडा ने कहा कि, सरकार ने दक्षिण सूडान में नुकसान का सामना करने वाले व्यापारियों को मुआवजा दिया था और अब गन्ना डीलरों को मुआवजा देने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here