कर्नाटक में गन्ने का उत्पादन घटने का अनुमान…

199

बेंगलुरु: चीनी मंत्री सी टी रवि ने कहा कि, कर्नाटक, जो भारत का तीसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक है, गन्ने की पैदावार में कमी का सामना कर सकता है क्योंकि हाल ही में आई बाढ़ में बड़ी मात्रा में गन्ना फसल को नुकसान हुआ है। गन्ना नियंत्रण बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए, रवि ने कहा कि, हाल ही में आई बाढ़ ने 5 लाख हेक्टेयर में से 1.52 लाख हेक्टेयर को प्रभावित किया है, जिस पर गन्ना उगाया जाता है। इसलिए, हम उपज में कमी का अनुमान लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा की, इसका मतलब होगा चीनी मिल के लिए कम पेराई सत्र होगा, और दीपावली के बाद, हम मिलों को गन्ने की पेराई शुरू करने की अनुमति देंगे। रवि ने कहा कि, कर्नाटक में 85 चीनी मिलें हैं जिनमें से 67 कार्यशील हैं। 2018-19 में, मिलों द्वारा कुल 410.65 लाख मीट्रिक टन गन्ना क्रशिंग किया गया और 44.31 लाख मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन हुआ था। बैठक में गन्ना उत्पादकों ने भी भाग लिया, जिन्हें आश्वासन दिया गया है कि सरकार अगले 10 दिनों में मिलों को उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) के अनुसार उनका बकाया भुगतान सुनिश्चित करेगी। 2018-19 के लिए एफआरपी 2,750 रुपये प्रति टन था। एफआरपी के अनुसार, मिल को किसानों को 11,948 करोड़ रुपये का भुगतान करना था, और अब तक, केवल 84 करोड़ रुपये बकाया है। बेंगलूरु से गन्ना विकास निदेशालय को बेलगावी स्थानांतरित करने पर, रवि ने कहा कि, सरकार ने इसे करने का फैसला पहले ही कर लिया था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here