केन्या और युगांडा के बीच चीनी के मुद्दे पर अगले महीने होगी वार्ता

230

नैरोबी / कंपाला :केन्या और युगांडा के बीच पिछले कुछ महीनों से शुरू व्यापार तनाव को कम करने के लिए नवम्बर में दोनों देशों के बीच बैठक होने वाली हैं। केन्या के अधिकारी अगले महीने युगांडा का दौरा करने वाले हैं, ताकि उन दावों की पुष्टि की जा सके कि पड़ोसी देशों से आयातित चीनी और दूध अन्य देशों से आता है, जिसका युगांडा लगातार इनकार करता आया है। केन्या और युगांडा पिछले एक साल में चीनी, दूध और पोल्ट्री उत्पादों सहित कई उत्पादों के निर्यात मामले में गंभीर झगड़ों में उलझे हुए हैं।

पशुधन के प्रधान सचिव हैरी किमताई ने कहा कि, युगांडा में कोरोना महामारी की तीसरी लहर से अधिकारियों ने नवंबर की तारीख तय की है। केन्याई अधिकारियों ने कहा की, हम युगांडा के साथ कुछ पत्राचार का आदान-प्रदान कर रहे हैं और हम अगले महीने एक तथ्य-खोज मिशन के लिए वहां जा रहे हैं।युगांडा ने पिछले हफ्ते गतिरोध को दूर करने के लिए केन्या की कृषि और व्यापार मंत्रिस्तरीय टीमों को बातचीत के लिए कंपाला में आमंत्रित किया था। केन्या में युगांडा के उच्चायुक्त हसन वास्वा गैली बांगो ने केन्या के प्रतिनिधिमंडल को आमंत्रित किया।

पिछले महीने, युगांडा ने केन्या को अपने निर्धारित चीनी निर्यात में 79 प्रतिशत की कटौती का विरोध किया। चीनी निदेशालय द्वारा कहा गया था कि, व्यापारियों को केवल युगांडा से 18,923 टन चीनी आयात करने की अनुमति दी जाएगी, जो कि केन्या ने पहले 90,000 टन आयात करने की अनुमति दी थी। दोनों देशों के बीच एक समझौते ने युगांडा को तीन साल पहले देश में अधिशेष चीनी निर्यात करने की अनुमति दी थी। लेकिन केन्या ने पिछले साल के अंत तक कार्यान्वयन में देरी की।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here